हाईवोल्टेज ड्रामाः- डीएम आवास पर आधी रात धरने पर बैठे पूर्व विधायक, मिला जीत का प्रमाणपत्र

हाईवोल्टेज ड्रामाः- डीएम आवास पर आधी रात धरने पर बैठे पूर्व विधायक, मिला जीत का प्रमाणपत्र

औरंगाबाद/बुलन्दशहर। जिला पंचायत के वार्ड-52 पर परिणाम को लेकर मंगलवार तड़के तक हाईवोल्टेज ड्रामा चला। रालोद प्रत्याशी मनोज रानी 403 वोटों से चुनाव जीत गई। प्रतिद्वंद्वी भाजपा प्रत्याशी ने री-काउंटिंग की मांग करते हुए हंगामा खड़ा कर दिया। इधर,जीत का प्रमाण पत्र न मिलने पर प्रत्याशी समेत पूर्व विधायक व समर्थक आधी रात डीएम आवास के बाहर धरने पर बैठ गए। जयंत चौधरी व कमिश्नर के हस्तक्षेप पर रात 3.30बजे मनोज रानी को जीत का प्रमाण पत्र मिल सका।
बता दें कि जहांगीराबाद ब्लॉक क्षेत्र में जिला पंचायत का वार्ड-52 का क्षेत्र लगता है। रविवार से चल रही मतगणना के बाद सोमवार शाम रालोद प्रत्याशी 403 वोटों से चुनाव जीत गयी। मनोज रानी ने भाजपा प्रत्याशी आलोक कुमार को कड़ी टक्कर देकर हरा दिया। मतगणना कर रहे अधिकारियों ने जीत के बाद प्रत्याशी को यह कहकर घर भेज दिया कि डीएम के यहां से ही जीत का प्रमाण पत्र मिलेगा। मनोज रानी के वहां से लौटते ही भाजपा प्रत्याशी आलोक ने री-काउंटिंग की मांग को लेकर मौके पर ही हंगामा खड़ा कर दिया। वहां मौजूद रालोद नेता सुनील चरौरा ने री-काउंटिंग का विरोध किया। पूर्व विधायक दिलनवाज खान ने डीएम-सीडीओ को फोन कर जहांगीराबाद ब्लॉक पर तैनात अधिकारियों पर धांधलेबाजी का आरोप लगाकर शिकायत की। रात 11 बजे पूर्व विधायक ने विजेता प्रत्याशी मनोज रानी और समर्थकों को डीएम आवास पर बुला लिया और रालोद जिलाध्यक्ष अरुण चौधरी सहित सभी लोग धरने पर बैठ गए। पूर्व विधायक दिलनवाज खान ने रालोद नेता जयंत चौधरी को मामले से अवगत कराया। मेरठ कमिश्नर सुरेंद्र कुमार से शिकायत की। दिलनवाज खान ने खुद सीएम योगी आदित्यनाथ और चुनाव निर्वाचन आयोग को ट्वीट किया, जिसके बाद जिले के अधिकारियों में हड़कंप मच गया। डीएम रविन्द्र कुमार ने तत्काल जहांगीराबाद ब्लॉक के आरओ को सिटी मजिस्ट्रेट के यहां बुला लिया। रात 3.30 बजे सिटी मजिस्ट्रेट ने विजेता प्रत्याशी मनोज रानी को जीत का प्रमाण पत्र दिया, तब जाकर मामला शांत हो सका।
विधायक ने अपने हाथों में रखी थी चुनाव की बागडोर
जिला पंचायत सदस्य बनी मनोज रानी स्याना विधानसभा के गांव जाड़ौल की रहने वाली है। इनके पति जहांगीराबाद ब्लॉक में सफाई कर्मी है। पूर्व विधायक दिलनवाज खान ने मनोज रानी के चुनाव की कमान अपने हाथों में रखी थी।
क्षेत्र की जनता ने जो प्यार और समर्थन दिया है। वह उसे कभी नहीं भूलेंगी। वार्ड में विकास कार्य कराकर जनता का विश्वास जीता जाएगा -मनोज रानी नवनिर्वाचित जिला पंचायत सदस्य वार्ड -52
सत्ता के एक विधायक के इशारे पर षडयंत्र रचा गया। दलित की बेटी को हराने की पूरी कोशिश हुई। पार्टी प्रत्याशी के दोनो पैर झुलसने के बाद भी वह धरने पर 4 घंटे तक बैठी रही। आखिरकार जनता जनार्दन की जीत हुई है। -दिलनवाज खान पूर्व विधायक स्याना

 656 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *