सुलभ श्रीवास्तव हत्याकांड से पत्रकारों में रोष, सीओ को मुख्यमंत्री के नाम सौपा ज्ञापन

सुलभ श्रीवास्तव हत्याकांड से पत्रकारों में रोष, सीओ को मुख्यमंत्री के नाम सौपा ज्ञापन

मृतक पत्रकार के परिवार को 50लाख रुपये की आर्थिक सहायता की मांग की
स्याना/बुलन्दशहर।
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा पत्रकारों की सुरक्षा के लाख दावे किये जाएं ,किन्तु माफियाओं के आगे सरकार के सभी दावे धराशायी हो रहे हैं। इसका ताजा उदाहरण हाल ही में जनपद प्रतापगढ़ के पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की हत्या के रूप में सबके सामने हैं। बदमाशों द्वारा मारे गए पत्रकार का कुसूर केवल इतना था कि उसने तीन दिन पूर्व शराब माफियाओं के खिलाफ एक खबर चलाई थी। इसी खबर पर संज्ञान लेते हुए प्रशासन ने कुछ शराब माफियाओं के खिलाफ कार्यवाही की थी। बस यही बात शराब तस्करी से जुड़े माफियाओं को नागवार गुजरी और उन्होंने पत्रकार को रास्ते से ही हटा दिया। पत्रकार की हत्या के विरोध में पत्रकार समाज मे रोष व्याप्त है ,जिसके चलते स्याना क्षेत्र के पत्रकारों ने सीओ स्याना को ज्ञापन सौंपा।
पत्रकारों पर बढ़ते जानलेवा हमले प्रदेश सरकार के दावों की जमकर पोल खोल रहे हैं। समय-समय पर बदमाशों द्वारा दर्जनों पत्रकारों को अपना निशाना बनाकर मौत की नींद सुला दिया गया। हाल ही में प्रतापगढ़ में पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की हत्या ने फिर से पत्रकार समाज को झकझोर कर रख दिया है। जानकारी के मुताबिक जो बात सामने निकल कर आई है ,उसके हिसाब से प्रशासन भी इस मौत का काफी हद तक जिम्मेदार है। मृतक पत्रकार ने शराब माफियाओं से अपनी जान का खतरा जताते हुए उच्चाधिकारियों को लिखित रूप में भी अवगत कराया था। लेकिन आलस में डूबी सरकारी मशीनरी उस लिखित शिकायत का संज्ञान लेने में देरी कर बैठी, जिसका खामियाजा सुलभ को अपनी जान देकर उठाना पड़ा। 13जून को सुलभ की रहस्यमयी ढंग से हत्या कर दी गई ,जिसके बाद स्थानीय पुलिस ने भी घटना को सन्दिग्ध दिखाने का भरसक प्रयास किया। मंगलवार को स्याना क्षेत्र के पत्रकारों का समूह सीओ अलका सिंह से मिला और उन्हें एक ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में मृतक पत्रकार के परिवार के लिए पचास लाख रुपए की आर्थिक सहायता एवं सुरक्षा की माँग की गई। योगेन्द्र शर्मा ने कहा कि पत्रकारों के साथ आयेदिन अपराधिक घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। इन घटनाओं से पत्रकार भी खुद की सुरक्षा कर सके ,इसके लिए पत्रकारों के लिए हथियार के लाइसेंस बनवाये जाएं। उधम सिंह गुर्जर ने बताया कि पत्रकार द्वारा दी गई सूचना पर नाम उजागर होने पर ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति हो रही है। अधिकारियों को ध्यान रख ऐसी घटनाओं पर संज्ञान लेना चाहिए। स्याना-बुगरासी क्षेत्र के प्रिंट व इलेक्ट्रानिक मीडियाकर्मियों ने इस हत्याकांड पर रोष जताया। साथ ही मृतक के परिवार के लिए एक सरकारी नौकरी की मांग भी ज्ञापन में की गई है। इस मौके पर यतेन्द्र त्यागी, अशोक कुमार, उधम सिंह, आशीष कुमार, योगेन्द्र शर्मा, कृष्ण कुमार, चौ देव सिरोही, विकास त्यागी, अनिल कुमार, आनंद कुमार, मुशीर खान सहित आदि पत्रकार मौजूद रहे।

 368 total views,  4 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *