साढ़े नौ घंटे बाद बोरवेल से सकुशल निकाला बालक

साढ़े नौ घंटे बाद बोरवेल से सकुशल निकाला बालक

सेना और एनडीआरएफ का रेस्क्यू ऑपरेशन रहा सफल
आगरा।
धरियाई गांव में सोमवार को खेलते समय पांच साल का बच्चा 150 फीट गहरे बोरवेल में गिर गया। कुछ घंटे में ही सेना और एनडीआरएफ के जवान फरिश्ते बनकर गांव में पहुंच गए। डेढ़ घंटे का रेस्क्यू ऑपरेशन मासूम के हौंसल से सफल हो गया और साढ़े नौ घंटे बाद मासूम ने खुली हवा में सांस ली। सेना की एंबुलेंस पहले से ही तैयार खड़ी थी। इससे उसे अस्पताल के लिए टीम लेकर रवाना हो गई। धरियाई गांव निवासी किसान छोटेलाल के घर के सामने ही खेतों की सिंचाई को सबमर्सिविल पिछले दिनों खराब हो गई थी। छोटेलाल ने दो दिन पहले इसमें से पाइप खिंचवा लिए थे। एक फीट की परिधि में सबमर्सिविल का 130 फीट गहरा बोरवेल है। पाइप निकालने के बाद इसे खुला छोड़ दिया। सोमवार सुबह 7.30 बजे छोटेलाल का तीन वर्षीय बेटा शिवा खेलते समय इसमें गिर गया और जानकारी होने के बाद खलबली मच गई। ग्रामीणों ने बोरवेल में रस्सी डालकर उसकी गहराई और बच्चे की प्रतिक्रिया का अंदाजा लगाया। 95फीट पर जाकर रस्सी अटक गई। खींचने पर खिंच नहीं रही थी। दोपहर तक सेना और एनडीआरएफ की टीम भी गांव में पहुंच गई। सेना ने जेसीबी से खोदाई कराने का काम शुरू कर दिया। सीसीटीवी कैमरे से बोरबेल में फंसे बच्चे की निगरानी की जा रही थी। दोपहर तीन बजे एनडीआरएफ की टीम ने बोरबेल में विशेष प्रकार का जाल रस्सी के सहारे फंसा दिया। साथ ही बच्चे से उसके स्वजन की बात कराई। पानी, ग्लूकोज और बिस्कुट भी रस्सी के सहारे से नीचे भेजकर खिलाए। शाम पांच बजे बच्चे को बाहर निकाल लिया गया। बच्चा सकुशल बताया जा रहा है। फिलहाल उसे एंबुलेंस से हॉस्पिटल ले जाकर भर्ती कराया गया है,जो फिलहाल सकुशल बताया जा रहा है।

 146 total views,  4 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *