संतानों द्वारा काबिज वृद्धों की संपत्ति से हटाया जाएगा मलिकाना हक

संतानों द्वारा काबिज वृद्धों की संपत्ति से हटाया जाएगा मलिकाना हक

वृद्धों को दिलाई जाएगी वृद्धा पेंशन, वृद्धाश्रम में सरकार उठाएगी सारा खर्चा
जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा विधिक साक्षरता शिविर में वृद्धों को बताएं उनके विधिक अधिकार
बुलन्दशहर।
वैसे हर माता-पिता अपनी संतानों को बहुत अच्छे से पढ़ाते लिखाते है, उनकी परवरिश मंे हर जरूरत को पूरा करते है, परंतु 60 वर्ष के बाद वृद्ध होने पर माता-पिता की संपत्ति पर संतान काबिज हो जाती है, फिर उनका खर्चा उठाना संतान के लिये भारी हो जाता है तथा उन्हें घर से बाहर निकाल देते हैं, और यदि कोई नहीं भी जाता है तो उन्हें वृद्धाश्रम में रहने के लिए मजबूर कर देते हैं, अनेक समस्याओं का वृद्धों को सामना करना पड़ता है। ऐसे वृद्धों को जीवन यापन करने के लिए अनेक सुविधाएं देने को अब जिला विधिक सेवा प्राधिकरण नई योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए तत्पर है। जिसके लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से एक विधिक साक्षरता शिविर वृद्धाश्रम में लगाया गया ,जिसमें वृद्धों को होने वाली समस्याओं के बारे में अवगत कराकर उनकी समस्याओं के निस्तारण के आदेश दिए। बता दें कि जनपद न्यायाधीश डॉ0 अजय कृष्ण के दिशा निर्देशन में सचिव सुमन तिवारी जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा वृद्धाश्रम में एक विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया ,जिसमें रहने वाले वृद्धों को विधिक सुविधाओं के बारे में अवगत कराया एवं उन्हें होने वाली समस्याओं के बारे में पूछकर वृद्धाश्रम इंचार्ज को तत्काल प्रभाव से उनकी समस्याओं को दूर करने के निर्देश दिए।
सुमन तिवारी द्वारा बताया गया कि वृद्धाश्रम में रहने वाले वृद्धों को उनकी संपत्ति पर उनके संतानों द्वारा किए गए कब्जे से मुक्त कराने के लिए वह एक प्रार्थना पत्र दें ,जिसका एसडीएम कोर्ट में निस्तारण कराया जाएगा तथा वृद्धों को वृद्धा पेंशन की सुविधाएं दी जाएंगी, जिससे वृद्धों को जीवन यापन करने में किसी भी प्रकार की समस्याओं का सामना न करना पड़े।
वृद्धाश्रम इंचार्ज द्वारा बताया गया कि वृद्धाश्रम में किसी वृद्ध को भेजे जाने अथवा वृद्धजन अपनी इच्छा से भी प्रवेश कर सकते हैं तथा उनकी उम्र 60 वर्ष या अधिक होनी चाहिए ,जिसमें उनके रहने के लिए अनेक सुविधाएं हैं, किसी को भी भूखा रहने या सड़कों पर भटकने की आवश्यकता नहीं है। वृद्धा ओमवती द्वारा बताया गया कि उन्हें पेंशन प्राप्त नहीं हो रही है ,जिसके संबंध में इंचार्ज को सचिव द्वारा निर्देशित किया गया कि इनके संबंध में आवश्यक कार्रवाई करना सुनिश्चित करें। विधिक साक्षरता शिविर में 14 वृद्धा एवं वृद्ध उपस्थित रहे।

 278 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *