शव न मिलने से गुस्साए ग्रामीणों ने मेरठ-बदायूं हाइवे किया जाम

शव न मिलने से गुस्साए ग्रामीणों ने मेरठ-बदायूं हाइवे किया जाम

अपहरण के बाद की गयी थी गला रेतकर हत्या
पुलिस शव तलाशने हेतु नदी में चला रही सर्च ऑपरेशन
बुलन्दशहर/शिकारपुर।
क्षेत्र में अपहरण के बाद दोस्तों द्वारा ही दोस्त की गला रेतकर निर्मम हत्या किये जाने का मामला प्रकाश में आया है। हत्या के बाद युवक का शव काली नदी में फेंक कर हत्यारोपी फरार हो गए। पुलिस की पकड़ में आए तीन हत्यारोपियों ने दोस्त की हत्या कर शव नदी में फेंकने की बात स्वीकार की है। पुलिस हत्याारोपियों की निशानदेही पर काली नदी में सर्च ऑपरेशन चलाकर शव को तलाशने में जुटी होने का दावा कर रही है।
जानकारी के अनुसार 29दिसंबर को शिकारपुर कोतवाली की नई बस्ती शिवलोक कॉलोनी निवासी अजय कुमार शर्मा, अपने ही दोस्त की शादी की पार्टी में गया था। जहाँ अजय ने दोस्त की शादी की पार्टी में अपने दोस्तों के साथ शराब पीयी। शराब के नशे में हुई कहासुनी के बाद अजय का उसके ही दोस्तों ने अपहरण कर लिया। अपहरण के बाद ब्लेड से घायल कर युवक को गाड़ी में डालकर अपहरणकर्ता अपने साथ ले गए। बाद में ब्लेड से गर्दन रेत कर उसकी निर्मम हत्या कर शव को नदी में फेंक दिया गया। वहीं पुलिस सर्च ऑपरेशन चलाकर शव की तलाश में जुटी होने का दावा कर रही है, लेकिन लगभग सुबह से शाम तक चले सर्च ऑपरेशन में शव न मिल पाने पर परिजनों का विश्वास डगमगाने लगा। जिससे गुस्साए ग्रामीणों ने परिजनों के साथ मिलकर मेरठ-बदायूं स्टेट हाईवे स्थित शिकारपुर की जहाँगीराबाद चुंगी पर जाम लगा दिया। जिससे वाहनों की आवाजाही बंद हो गई और दोनों ओर वाहनों की किलोमीटर लंबी लाइन लग गई। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने परिजनों व ग्रामीणों को मृतक अजय के शव को जल्द ढूंढ निकालने का आश्वासन देकर समझा-बुझाकर शांत कर जाम खुलवाया। मृतक के पिता की माने तो लगभग 6 माह पूर्व मृतक अजय की हत्यारोपी गोल्डी से किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई थी और वह कहासुनी मारपीट में बदल गई थी। जिसके बाद गोल्डी अजय से रंजिश मानने लगा था। हत्यारोपी गोल्डी अजय उसी दिन से अजय से बदला लेने की फिराक में था।
पुलिस सतर्क होती तो दो दिन पहले हो सकता था अजय की हत्या का खुलासा
मृतक अजय के पिता की मानें तो उन्होंने पुलिस को अजय के अपहरण की सूचना देकर 7 लोगों के खिलाफ नामजद तहरीर लिख कर दी थी, लेकिन अपने में चुस्त और दुरुस्त पुलिस ने मृतक अजय के पिता को दो दिन तक थाने के चक्कर लगवाते रहे, लेकिन शिकारपुर कोतवाली प्रभारी ने कोई उचित कार्रवाई नहीं की थी। जिसके बाद मृतक के पिता ने बुधवार को एसएसपी संतोष कुमार सिंह से न्याय की गुहार लगाई थी। एसएसपी की फटकार के बाद कोतवाली शिकारपुर पुलिस हरकत में आई। कोतवाली पुलिस ने आनन-फानन में तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर पूछताछ के बाद अजय की हत्या का खुलासा हुआ। हत्यारोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने नदी में सर्च ऑपरेशन चला रही है। लेकिन पुलिस को शव ढूंढने में सफलता नहीं मिली है। समाचार लिखे जाने तक नदी में पुलिस का सर्च ऑपरेशन जारी है। पुलिस बाकी हत्यारोपियों की तलाश में जुटी होने का दावा कर रही है। उधर घटना स्थल पर एसपी देहात बजरंग बली चौरसिया एवं सीओ शिकारपुर सुरेश कुमार के नेतृत्व में सर्च ऑपरेशन चलाया गया है।

 216 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *