विपदा की घड़ी में अवसर ढूंढने वाले व्यापारी घरेलू सामान की कर रहे काला बाजारी ,प्रशासन मौन

विपदा की घड़ी में अवसर ढूंढने वाले व्यापारी घरेलू सामान की कर रहे काला बाजारी ,प्रशासन मौन

बुलन्दशहर। शासन-प्रशासन द्वारा बढ़ाये जा रहे कोरोना कर्फ्यू के चलते अब घरेलू सामानों की भी काला बाजारी शुरू हो गई है, फिर भी ग्राहक अपना व अपने बच्चों का भरण पोषण करने के लिए अपनी जेबें ढीली कर रहे हैं,मगर जिम्मेदार अधिकारी गंभीर नजर नहीं आ रहे हैं। कोरोना कर्फ्यू में दैनिक आपूर्ति की वस्तुओं के लिये दुकानों को निर्धारित तीन घंटे तक खोलने के निर्देश है, ऐसे में लोग इस आशंका से घिरे हैं कि संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए लॉकडाउन अभी और लंबा चलेगा। इस मौके को लोभी, लालची दुकानदारों ने इसे भुनाना शुरू कर दिया है।उन्होंने दैनिक आपूर्ति की वस्तुओं के दाम बढ़ा दिए हैं। खाद्य सामग्री से लेकर बीड़ी, सिगरेट, पान मसाला तक ओवर रेट पर बेचे जा रहे हैं। मास्क और सेनिटाइजर की डिमांड भी बढ़ने से इनके दाम भी बढ़ा दिए हैं। इतना ही नहीं इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए मौसमी फलों के साथ-साथ नींबू, आंवला आदि तक महंगे हो गए हैं। विटामिन-सी एवं मेडिसिन समेत पैरासीटामॉल अािद पर भी कालाबाजारी हो रही है। इन महंगे दामों पर सामानों को खरीदना लोगों की मजबूरी हो गई है। कोरोना की चेन तोड़ने को रात्रि आठ बजे से नाइट कर्फ्यू लागू किया गया। इसके बाद शनिवार और रविवार को कोरोना कर्फ्यू लगाया गया, जिसकी अवधि बढ़ाकर सोमवार तक की गई। रात्रि कर्फ्यू रहने की वजह से 4मई की सुबह सात बजे तक पाबंदी लगाई गई और शासन-प्रशासन ने अब कोरोना कर्फ्यू 17मई तक बढ़ा दिया है। ऐसे में अब घरेलू सामान पर भी जबरदस्त कालाबाजारी शुरू हो गई है। इस कालाबाजारी को रोकने में प्रशासन विफल है या फिर कालाबाजारी रोकना नहीं। फल से लेकर अन्य घरेलू सामान इतने महंगे दामों में बेचे जा रहे है कि गरीब आदमी अब सामान खरीदने में तरसने लगा है। व्यापारियों ने बीड़ी, सिगरेट, तंबाकू ,दोगुनी कीमत में कर दिया है। वहीं दूसरी ओर शराब की दुकानों से शराब खरीदकर महंगे दामों में बेची जा रही हैं।

 166 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *