लॉकडाउन के चलते परेशान व्यापारी

लॉकडाउन के चलते परेशान व्यापारी

स्याना/औरंगाबाद/बुलन्दशहर। लॉकडाउन में छूट प्राप्त ट्रेडों से अलग ट्रेडों के व्यापारीगण दुकानें न खुलने के चलते परेशान हैं। ऐसे व्यापारियों ने सरकार से मांग की है कि उनके ट्रेडों के लिए भी नीति निर्धारित की जाए, जिससे परिवार का भरण-पोषण सुचारू हो सके। नगर के अनेक व्यापारियों ने मीडिया से अपनी पीड़ा व्यक्त करते हुए कहा कि लॉकडाउन में उनके ट्रेडों को छूट न मिलने के चलते उनके समक्ष रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। लगातार दुकानों के बंद रहने से घर में आवश्यक वस्तुओं की खरीददारी हेतु भी हाथ में पैसा नहीं रहा है। दुकानों पर जारी बिजली बिल, कर्मचारियों की तनख्वाह, नगरपालिका हाउस टैक्स, जलकर बदस्तूर जारी है। परिवार को जरूरी चाय-नाश्ता, खाना-पीना, सर्फ-साबुन, दवाई-गोली, पढ़ाई-लिखाई, रसोई गैस-बिजली बिल के खर्चे ऐसे हैं, जिनसे मुंह नहीं फेरा जा सकता। जिनके पास अपने मकान-दुकान हैं, उनसे अलग किराए के मकान-दुकान में रह रहे दुकानदारों पर किराए बदस्तूर चढ़ रहे हैं, जिनकी अदायगी न करने पर सिर पर से छत ही चली जाएगी। अपने दर्द को साझा करते हुए जूते-चप्पल, लोहा-लकड़ी, सीमेंट-रेत, क्रीम-पाउडर, रेडीमेड-कपड़ा, ज्वैलरी-आर्टिफिशियल ज्वैलरी, प्लास्टिक खेल-खिलौने, क्रॉकरी-बर्तन,मिठाई की दुकान,पान-बीड़ी, इलेक्ट्रॉनिक-इलेक्ट्रिकल सामान, किताब-कॉपी, तस्वीर फ्रेमिंग, शीशा-हार्डवेयर, ढाबे-होटल, चाय-कैंटीन जैसे धंधों से जुड़े व्यापारियों ने सत्तारूढ़ पार्टी के नुमाइंदों, शासन-प्रशासन से उनके हाल पर भी ध्यान देते हुए लॉकडाउन में दुकानें खुलने की माकूल व्यवस्था किए जाने की गुहार लगाई है। ऐसे व्यापारियों की सबसे बड़ी मजबूरी है कि सामाजिक मजबूरी के चलते वे अपने स्तर से गिरकर भी कोई और धंधा नहीं कर सकते। ऐसे व्यापारियों के समक्ष इधर कुआं, उधर खाईृ वाली स्थिति खड़ी हुई है। व्यापारियों ने सरकार से शीघ्र से शीघ्र उनकी परेशानियों का हल निकालने की मांग की है।

 156 total views,  6 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *