रालोद व बसपा जिलाध्यक्ष एवं पूर्व विधायक समेत 21 पर रिपोर्ट दर्ज, मचा हड़कम्प

रालोद व बसपा जिलाध्यक्ष एवं पूर्व विधायक समेत 21 पर रिपोर्ट दर्ज, मचा हड़कम्प

बुलन्दशहर/सिकन्द्राबाद। शुक्रवार को गुलावठी रोड पर ग्राम पीर बियाबानी स्थित चन्द्रकान्ता महाविद्यालय से जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर नामांकन के लिए मंत्रणा करते हुए हिरासत में लिए गए जिला पंचायत सदस्य एवं समर्थकों के प्रकरण में सिकन्द्राबाद पुलिस ने शनिवार को बड़ी कार्रवाई कर रालोद व बसपा के जिलाध्यक्ष समेत 21 पर रिपोर्ट दर्ज की है।
जानकारी के अनुसार शुक्रवार को गुलावठी रोड पर ग्राम पीर बियाबानी स्थित चन्द्रकान्ता महाविद्यालय में पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष हरेंद्र यादव की पत्नी आशा यादव के जिला पंचायत अध्यक्ष पद के नामांकन के लिए मंत्रणा की जा रही थी। जिसमें रालोद जिलाध्यक्ष अरुण चौधरी व रालोद पदाधिकारी, बसपा जिलाध्यक्ष सतीश सागर व बसपा पदाधिकारी तथा जिला पंचायत सदस्य मौजूद थे। जिला व पुलिस प्रशासन को जैसे ही प्रकरण की जानकारी हुई कि पुलिस प्रशासन के आला अफसर मौके पर पहुंच गये और बैठक कर रहे लोगों को बिना अनुमति बैठक करने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करने, महामारी अधिनियम का उल्लंघन करने के मामले में हिरासत में लेने लगे, तभी कार्रवाई के विरोध में जिला पंचायत सदस्य , रालोद व बसपा कार्यकर्ता धरने पर बैठ गए और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करने लगे। मगर पुलिस के अफसरों ने समझा बुझाकर धरना से उठाया और लोगों को बसों में बैठाकर कोतवाली लेकर आ गये। सूत्रों के हवाले से पता चला कि इस दौरान ककोड़, गुलावठी और सिकन्द्राबाद कोतवाली से भारी पुलिस बल मौजूद रहा। कोतवाली में भी सभी सदस्य व पदाधिकारी जिलाधिकारी को ज्ञापन देने की बात को अड़े रहे, इसी बीच समाधान बतौर राष्ट्रीय लोकदल के जिलाध्यक्ष अरुण चौधरी ने राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन एसडीएम रविशंकर सिंह को सौंपा। बताया गया कि पुलिस ने सभी कार्यकर्ताओं को 2-2.5 घंटे बाद छोड़ दिया। शनिवार देर रात कायस्थवाड़ा पुलिस चौकी प्रभारी सुखपाल सिंह की तहरीर पर कोतवाली में रालोद के जिलाध्यक्ष अरुण चौधरी, बसपा जिलाध्यक्ष सतीश नागर, पूर्व विधायक दिलनवाज समेत 21लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है।

 374 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *