राज्यमंत्री कृषि की अध्यक्षता में वर्चुअल गोष्ठी आयोजित कर फसलों के संबंध में जानकारी दी

राज्यमंत्री कृषि की अध्यक्षता में वर्चुअल गोष्ठी आयोजित कर फसलों के संबंध में जानकारी दी

जो संस्था खराब गुणवत्ता का बीज विक्रय करे, उसके विरूद्ध कार्यवाही की जाए-कृषि मंत्री
जिले में अधिक से अधिक बछिया का जन्म हो और छूटा नर पशु की संख्या में कमी आ सके-मंत्री
जिले में संचालित 154गौशाला में संरक्षित करीब 10500 गौवंशों मंे से 2700 गौवंशों को गौशालाओं से सहभागिता दिया गया, अन्य के भरण पोषण की लंबित धनराशि दी जाए-डीएम
बुलन्दशहर।
वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से मण्डल स्तरीय खरीफ गोष्ठी का आयोजन राज्य मंत्री कृषि की अध्यक्षता में किया गया। गोष्ठी के तकनीकी सत्र में वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिकों द्वारा कृषकों को धान, गन्ना, दलहन, तिलहन आदि फसलों के संबंध में तकनीकी जानकारी दी गई। गोष्ठी में कृषकों को कीटनाशक आदि रसायनों की जानकारी दी गई। साथ ही सब्जियों उगाये जाने हेतु जो कृषि रक्षा रसायन प्रयोग किये जाते हैं उनके निर्धारित समयावधि के पश्चात ही उनकी बिक्री करने तथा समय सीमा के संबंध में कृषकों को जागरूक किया जाये। गोष्ठी में उद्यान विभाग द्वारा कृषकों हेतु अनुदानित योजनाओं व विभाग द्वारा कृषकों हेतु की गई व्यवस्थाओं के संबंध में भी विस्तृत रूप से जानकारी देते हुए बताया गया कि विभाग द्वारा सिंचाई हेतु पाइन, स्प्रिंकलर सैट व टैपक सिंचाई प्रणाली पर कृषकों को इस वर्ष भी अनुदान की व्यवस्था की गई है। गोष्ठी में निर्देशित किया गया कि कृषकों को उत्तम क्वालिटी के प्रमाणित बीजों का अधिकाधिक वितरण कराया जाये। इसके साथ ही जिस संस्था द्वारा खराब गुणवत्ता का बीज विक्रय किया जाता है उसके विरूद्ध कार्यवाही की जाये। कृषि विभाग द्वारा जो बीज अनुदान पर विक्रय किया जा रहा है उसकी अनुदान राशि कृषकों को शीघ्रता से भुगतान किये जाने की व्यवस्था की जाये। जनपद में उर्वरक का समान रूप से वितरण भी सुनिश्चित कराया जाये। खरीफ में पराली/फसल अवशेष कृषकों द्वारा जलाये जाते हैं इस संबंध में अभी से कार्ययोजना बनाकर फसल अवशेष नहीं जलाये जाने हेतु कृषकों को जागरूक किया जाये। सोलर पम्प योजना के संबंध में निर्देशित किया गया कि कृषकों में योजना का प्रचार-प्रसार कराते हुए लाभान्वित किया जाये।
गोष्ठी में निर्देशित किया गया कि कृषकों के जैविक उत्पादन को एफ0पी0ओ0 के माध्यम से मार्किट लिंकेज कराया जाये ताकि कृषकों को जैविक फसलों का उचित मूल्य मिल सके। भूजल के गिरते जलस्तर पर चिंता व्यक्त करते हुए इसके संबंध में कार्य करने तथा मनरेगा के माध्यम से रिचार्जिंग पिट, तालाब निर्माण, तालाबों का सुदृढ़ीकरण कराये जाने के निर्देश दिये गये। गोष्ठी में फसलों की बुवाई को समय से कराये जाने तथा अधिक पानी चाहने वाली फसलों के स्थान पर कम पानी वाली फसलों की बुवाई हेतु कृषकों को प्रेरित किया जाये। गोष्ठी में समय से कृषि निवेश व्यवस्था कराये जाने, प्रमाणित बीजों का अधिक से अधिक प्रयोग कराकर बीज प्रतिस्थापन दर बढ़ाने, हरी खाद की बोवाई फसलों का विविधीकरण, सब्जियों की फसलों को बढ़ावा देने, फसल बीमा में अधिक से अधिक कृषकों को जोड़ने आदि कार्यो के संबंध में निर्देशित किया गया। गोष्ठी में वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से उपस्थित जिलाधिकारी रविन्द्र कुमार द्वारा जनपद बुलन्दशहर में कृषि निवेंशों की व्यवस्था, सिंचाई, विद्युत, किसानों की आय बढ़ाये जाने के लिए किये जा रहे कार्यो आदि के संबंध में विस्तृत रूप से जानकारी दी गई। गोष्ठी में जिलाधिकारी द्वारा शासन से अनुरोध के साथ निम्न मांगें की गई-
अनूपशहर चीनी मिल की 2500 टीसीडी (गन्ना पेराई क्षमता) को बढ़ाकर 05 हजार टीसीडी (गन्ना पैराई क्षमता ) किये जाने का अनुरोध किया गया ,जिससे अनूपशहर चीनी मिल के अन्तर्गत आने वाले किसानों के गन्ने पेराई की समस्या का समाधान हो सके। बछिया उत्पादन योजना में आने वाली लेवी लागत 300 रूपये में छूट प्रदान किये जाने की मांग की गई ,जिससे ज्यादा से ज्यादा बछिया का जन्म हो सके और छूटा नर पशु की संख्या में कमी आ सके। स्याना फल पट्टी क्षेत्र में मैंगो हार्वेस्टर अनुदान देने का अनुरोध किया गया कि जिससे फल उगाने वाले किसानों को फायदा मिल सके। जनपद में संचालित 154 गौशाला में संरक्षित लगभग 10500 गौवंशों मंे से सहभागिता योजना के अन्तर्गत लगभग 2700 गौवंशों को गौशालाओं से दिया गया है। उनके भरण पोषण की लंबित धनराशि को भी दिये जाने की मांग की गई।इस अवसर पर उप कृषि निदेशक आर0पी0 चौधरी सहित कृषि विभाग के अधिकारी एवं प्रगतिशील किसान/पद्यश्री भारत भूषण त्यागी उपस्थित रहे।

 182 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *