ये क्या हो रहा है? लाखों रुपये ऐंठने के बाद भी मरीज के उपचार की कोई जानकारी नहीं

ये क्या हो रहा है? लाखों रुपये ऐंठने के बाद भी मरीज के उपचार की कोई जानकारी नहीं

केडी के बाद अब नियति अस्पताल पर डीएम ने बैठाई जांच
मथुरा।
जनपद में निजी अस्पतालों में भर्ती कोरोना मरीजों से लाखों रुपए  ऐंठने के बाद उनके परिजनों को उनकी कोई सूचना तक न दिये जाने से लगातार लोगों में रोष बढ़ता जा रहा है। मरीज के परिजन अपनी शिकायतों को लेकर ऊर्जा मंत्री तक पहुँच रहे हैं। अब केडी मेडिकल कॉलेज के बाद नियति अस्पताल के बारे में एक शिकायत पर जिलाधिकारी ने मजिस्ट्रेट इंक्वायरी बैठा दी है। जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल ने अवगत कराया है कि निर्भी द्वारा ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा को सम्बोधित शिकायती पत्र 11मई के माध्यम से अवगत कराया गया है कि उनके पति हार्दिक रस्तोगी को उनके द्वारा 27अप्रैल,2021 को नयति अस्पताल में भर्ती कराया गया है, और इलाज हेतु 6लाख रूपये की धनराशि अस्पताल में जमा करायी गयी थी। अस्पताल द्वारा उनके पति के उपचार एवं उनकी तबीयत के विषय में उन्हें कोई भी जानकारी उपलब्ध नहीं कराई गई। इस पर जिलाधिकारी चहल ने ज्वाइंट मजिस्ट्रेट आईएएस दीक्षा जैन तथा उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ0 आलोक कुमार की टीम बनाकर निर्देशित किया है कि उक्त प्रकरण की गुणवत्ता एवं पारदर्शिता के साथ एक सप्ताह में जांच करके रिपोर्ट उनको प्रेषित की जाए।

 142 total views,  4 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *