मुख्यमंत्री द्वारा की घोषणा के दस दिन बाद भी मृतकाश्रितों के लिए आज तक जारी नहीं हुआ कोई शासनादेश, शिक्षक समुदाय में भारी रोष

मुख्यमंत्री द्वारा की घोषणा के दस दिन बाद भी मृतकाश्रितों के लिए आज तक जारी नहीं हुआ कोई शासनादेश, शिक्षक समुदाय में भारी रोष

बुलन्दशहर।रविवार को उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ बुलन्दशहर के पदाधिकारियों की वर्चुअल बैठक सम्पन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष सुरेंद्र यादव ने और संचालन जिला उपाध्यक्ष कौशल किशोर ने किया। मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश द्वारा दस दिन पूर्व घोषणा की गई थी कि प्रदेश में पंचायत चुनाव के दौरान दिवंगत हुए सभी शिक्षक व कर्मचारियों के आश्रितों को आर्थिक सहायता व नौकरी दी जाएगी।मुख्यमंत्री द्वारा राज्य निर्वाचन आयोग से समन्वय स्थापित कर पंचायत चुनाव से सम्बंधित आर्थिक सहायता दिए जाने की गाइड लाइन में आवश्यक संशोधन कराने के निर्देश मुख्य सचिव व अपर मुख्य सचिव पंचायत को दिये थे, जिससे मृत शिक्षकों एवं कर्मचारियों के परिवारों को समुचित लाभ दिया जा सके परंतु आज तक दिवंगत शिक्षकों व कर्मचारियों के परिवारों की शासन स्तर से कोई सुध नहीं ली गयी और आर्थिक सहायता व नौकरी से सम्बंधित कोई भी आदेश शासन व विभाग द्वारा जारी नहीं हुआ है और न ही विभागीय स्तर से कोई तात्कालिक सहायता की पहल हुई है। शिक्षक समुदाय में विलम्ब के कारण यह धारणा बनती जा रही है कि शासन स्तर के अधिकारियों द्वारा इसे जान बूझकर ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है ,जिससे कि प्रदेश के हजारों शिक्षकों एवं कर्मचारियों को कोई भी आर्थिक सहायता सरकार को न देनी पड़े। इससे प्रदेश के शिक्षक समुदाय में भारी रोष व्याप्त है। उच्च न्यायालय द्वारा भी प्रत्येक दिवंगत शिक्षक एवं कर्मचारियों के आश्रितों को 01 करोड़ रुपये की सहायता दिए जाने के प्रस्ताव पर विचार करने का सरकार को निर्देश दिया है।
संगठन मांग करता है कि मुख्यमंत्री द्वारा की गई घोषणा के क्रम में शासन द्वारा अतिशीघ्र शासनादेश जारी किया जाए। दिवंगत शिक्षक, कर्मचारी, शिक्षामित्र और अनुदेशक के परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं। उन्होंने कई तरह के ऋण ले रखे थे ,जिसकी अदायगी भी नहीं हो रही है तथा उनके आश्रित दिवंगत शिक्षकों के वेतन पर ही निर्भर थे। शिक्षा मित्र, अनुदेशक तो मानदेय ही प्राप्त करते थे। इन सभी परिवारों की आर्थिक स्थिति बहुत ही खराब हो गई है और सभी दिवगंत परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं। दिवंगत शिक्षकों, शिक्षा मित्रों, अनुदेशकों, कर्मचारियों के परिवारों का जीवन यापन दूभर हो गया है। इसलिये मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुरूप उत्तर प्रदेश सरकार अपने वादे को पूरा करें और संगठन की मांग है कि दिवंगत शिक्षकों, शिक्षा मित्रों, अनुदेशकों, विशेष शिक्षकों एवं कर्मचारियों के सभी आश्रितों को 01 करोड़ रुपये प्रति परिवार, ग्रेच्युटी का भुगतान, योग्यतानुसार आश्रितों को नौकरी आदि को पूरा करें अन्यथा कि स्थिति में संगठन आंदोलन करने पर विवश होगा। जिलाध्यक्ष सुरेंद्र यादव, जिला मंत्री बाबू सिंह, जिला कोषाध्यक्ष देवेंद्र शर्मा, जिला उपाध्यक्ष कौशल किशोर, जिला मीडिया प्रभारी अरूण राठी, राजीव मोहन शर्मा, उदयवीर सिंह, अम्बरीष कुमार, अमित यादव, लोकेन्द्र सिंह, मनोज चौधरी, अनीता त्यागी, सीमा बधोतिया, शोभा शर्मा, अखिलेश शर्मा, पवन कुमार, सुशील शर्मा, जगवीर सिंह, सोमेंद्र कुमार, गजेन्द्र नागर, सुदेश कुमार, राजकुमार राघव, संजीव गौड़, बिटिन राजोरा, विकास सिरोही, विपिन शर्मा, मुकेश कुमार, मधु जौहरी, अंजना महेंद्र सिंह, चित्रा बंसल, पिंकी, अंजू यादव, शमा इरफाना, नजर अब्बास, उज्मा अमरीन, अमित चौधरी आदि उपस्थित रहे।

 182 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *