माँ भागीरथी सेवा ट्रस्ट के संचालक ने जनहित में प्रधानमंत्री के नाम ऑनलाइन शिकायती पत्र भेजा

माँ भागीरथी सेवा ट्रस्ट के संचालक ने जनहित में प्रधानमंत्री के नाम ऑनलाइन शिकायती पत्र भेजा

बुलन्दशहर। डिबाई क्षेत्र के ग्राम कर्णवास में अव्यवस्थाओं का जाल इस कदर फैला है कि यह स्थानीय प्रशासन की समझ नहीं आता।जिसके कारण आज तक इस गांव के लोगों की समस्याओं का समाधान नहीं किया गया है, जबकि इससे पूर्व ग्रामीण कई बार शिकायत कर चुके है, इससे ग्रामीण अत्यंत आहत हैं। उनकी मांग है कि उनकी समस्याओं का निराकरण जल्द से जल्द किया जाये।
बताया गया कि डिबाई क्षेत्र का ग्राम कर्णवास एक पौराणिक पवित्र तीर्थ स्थल है,यह ऋषियों की तपोभूमि रही है। गांव कर्णवास के पूर्व में श्री देवत्रय आदर्श इंटर कॉलेज कर्णवास गंगा रास्ते बगल में प्राचीन शमशान घाट (मोक्ष धाम) एकांत व कच्चा है। विधानसभा का लगभग आधा हिस्सा अपने पूर्वजों की शांति के लिए अन्य स्थानों से मृतकों का दाह संस्कार करने के लिए लोग यहां आते हैं। कर्णवास मोक्ष धाम में दाह संस्कार करने के लिए आये लोगों के लिये छाया, लाइट व रुकने के लिए उचित स्थान नहीं है। मोक्ष धाम में लाइट व छाया (टीन शैड) नहीं होना ,काफी गंभीर परेशानी बनी हुई है, जिस कारण रात में एकांत व भययुक्त स्थान अंधेरे के रहते लोग चिताओं का दाह संस्कार कर जल्दी ही चले जाते हैं, जिसकी वजह से वहां जंगली जानवर जलते शवों का अनादर कर अंग खीच कर गंगा के पानी में ठंडा करके खाने लगते हैं, जिससे हिंदू धर्म से जुड़े लोगों की धार्मिक भावनाएं आहत होतीं हैं।
माँ भागीरथी सेवा ट्रस्ट कर्णवास जनहित में बहुत से कार्यो के लिए शासन से मांग रहता रहा है ,जिससे पर्यावरण व क्षेत्र का माहौल सुगम व लोगों के अनुकूल बना रह सके। गांव व क्षेत्र की काफी गंभीर समस्या होने की वजह से इस पत्र के माध्यम से जनहित में प्रधानमंत्री से विनम्र अनुरोध करता है कि हिन्दू धर्म परंपरा के अनुरूप सक्षम लोक निर्माण अधिकारी को निर्देशित कर कर्णवास मोक्षधाम का त्वरित मौका मुआयना कराकर सोलर लाइट सहित बारिश व धूप से बचने के लिए टीन शैड लगवा कर समुचित व्यवस्था कराएं, जिससे कि मृतकों के साथ आने वाले परिजनों को दिन में छाया में ठहरने की व्यवस्था हो सके व साथ ही शवों की दाह संस्कार के समय सुरक्षा हो सके।

 180 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *