महंगाई के खिलाफ कांग्रेसियों का ऐलान

महंगाई के खिलाफ कांग्रेसियों का ऐलान

पेट्रोल-डीज़ल की बढ़ती कीमतों को लेकर बुग्गी में तहसील तक निकाला मार्च
एकजुट दिखे कांग्रेसी, 2022 की तैयारियों का फूंका बिगुल
डिबाई/बुलन्दशहर ।
फि़ल्म पिपली लाइव का वो चर्चित गीत.. “महगाई डायन खाय जात है“… जिसने यूपीए सरकार पार्ट 2 को न सिर्फ हिला कर रख दिया ,बल्कि 2014 में एनडीए सरकार को बहुत बड़ा मुद्दा भी दे दिया। जिसके दम पर 2014 में भाजपा का मुख्य नारा रहा कि बहुत हुई महंगाई की मार, अबकी बार मोदी सरकार.. लेकिन महज़ 7 वर्षों में इस गाने की गूंज फिर से सुनाई देगी। इसका शायद किसी को अंदाज़ा नही होगा। देश के कई राज्यों में वर्तमान में पेट्रोल-डीजल के दामों की सेंचुरी मारने के साथ-साथ जिस तरह खाद्य एवं अन्य क्षेत्रों में महंगाई अपने चरम पर है। इसके बाद विपक्ष ने वर्तमान सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।
इसी क्रम में उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा, प्रदेश अध्यक्ष अजय सिंह लल्लू के निर्देशन में जिलाध्यक्ष चौधरी श्यौपाल सिंह के आहवान पर डिबाई कांग्रेस कमेंटी के नेतृत्व में मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन कांग्रेसियों ने एसडीएम डिबाई मोनिका सिंह को सौंपा। जिसके माध्यम से कांग्रेसियों ने सरकार से पेट्रोल-डीज़ल के साथ-साथ बढ़ते घरेलू गैस के दामों को नियंत्रित कर किसानों एवं आम जनमानस को राहत प्रदान करने की गुहार लगाई है। साथ ही खाद्य एवं अन्य आवश्यक वस्तुओं के दामों में निरन्तर हो रही वृद्धि को न सिर्फ रोकने बल्कि सभी आवश्यक वस्तुओं के दाम घटाने का भी आग्रह किया है। एसडीएम के समक्ष कांग्रेसी नेता हरिओम दुबे ने कहा कि जहां एक ओर पेट्रोल के बढ़ते दामों ने मोटरसाइकिल एवं कार धारक उपभोक्ताओं की जेबों पर सीधे-सीधे डाका डाला है तो वहीं डीज़ल ने हमारे देश के अन्न दाताओं की कमर तोड़ने का काम किया है। सरकार का न तो अपने खर्चो पर कोई नियंत्रण है और न ही पेट्रोल-डीज़ल एवं घरेलू रसोई गैस की कीमतों पर.. सरकार अपने आप में ही मस्त है। देश के हालात बद से बत्तर हो चले हैं, लेकिन देश के शीर्ष नेतृत्व ने मानांे अपनी आँखें मूंद रखी है।
इसी क्रम में कांग्रेस के वरिष्ठ कार्यकर्ता संजय शर्मा ने कहा कि देश की मोदी सरकार और प्रदेश की योगी सरकार दोनों ही सरकारें पूर्णतः पूँजी पतियों की सरकार है। इस शासन में किसान, मज़दूर गरीब एवं व्यापारी बुरी तरह शोषित है। इस सरकार ने भाई को भाई से लड़ाने का काम किया है। ताली थाली के चक्कर में इस सरकार ने देश के मासूम नागरिकों के लिए वैक्सीन की भी बुकिंग तक नही की। फिर जब देश भर में कोरोना की दूसरी लहर अपना प्रकोप दिखा रही थी तब ये सरकार बंगाल में खेला कर रही थी। दीदी ओ दीदी… करके महिलाओं का मज़ाक उड़ा रही थी। ये इस सरकार का फेल्योर है कि जहाँ एक ओर कोरोना में लॉक डाउन के दौरान बाजार बुरी तरह से तबाह हो गए तो वहीं अनलॉक डाउन में दैनिक वस्तुओं के दामों ने आसमान छू लिया।
ज्ञापन देने वालों में वयोवृद्ध कांग्रेसी तेजपाल शर्मा पण्डा ने तमाम कांग्रेसियों को एक सबक दिया कि समाज सेवा उम्र नही देखती। इस भीषण गर्मी में बरसती हुई आग भी 81 वर्षीय तेजपाल शर्मा के हौसले और समाज के प्रति उनकी जि़म्मेदारी से उनको हटा नही पाई।उन्होंने कहा कि समाज सेवा एक जुनून है, जो बिना किसी महत्वाकांक्षा रखे ही जानी चाहिए। यदि निष्ठा सच्ची और निःस्वार्थ हो तो इंसान अपने दल को विशेष मुहब्बत करता है। सभी कार्यकर्ता अपनी निष्ठा के साथ पार्टी लाइन पर कार्य करते हैं और समाज हित में अपना सर्वस्व अर्पित करते हैं। पार्टी दायित्व किसी एक को सौंपती है। ऐसी स्थिति में बाकी सब को पूरी निष्ठा के साथ एकजुट हो कर पार्टी आदेश का अनुसरण करना चाहिए। हम संगठित रहेंगे तभी विजय प्राप्त होगी। ज्ञापन के समय पूर्व नगर पालिका उपाध्यक्ष एवं वरिष्ठ कांग्रेसी हरिओम दुबे, शफीक-उर-रहमान नगराध्यक्ष, पंडित अखिलेश शर्मा, सतीश चंद्र शर्मा एडवोकेट, नत्थी लाल शर्मा, राजू अंसारी, सलमान सैफी, अंसार अहमद, सुभाष चंद्र पाठक, नीरज पाठक, अंसार अहमद, यासीन खान,मंगू चौधरी, तपन गॉड, प्रमोद सिंघल, नवनीत शर्मा, रामनिवास शर्मा, सुभाष पाठक, रमन माहेश्वरी, सुनील पाठक, राजेश शर्मा, भारत पंडित, जाकिर हुसैन, अली मोहम्मद, उपेंद्र शर्मा, राहुल प्रजापति, कौशल दुबे आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

 74 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *