ब्लॉक प्रमुख पद के लिए नामांकन पत्र खरीदने आये रालोद नेता को पुलिस ने हिरासत में लिया, विरोध बढ़ता देख छोड़ा

ब्लॉक प्रमुख पद के लिए नामांकन पत्र खरीदने आये रालोद नेता को पुलिस ने हिरासत में लिया, विरोध बढ़ता देख छोड़ा

भाजपा कार्यकर्ताओं की तरह कार्य कर रही शिकारपुर पुलिस-नरेश चौधरी,रालोद नेता
राज्य मंत्री भी जनता का विरोध बढ़ता देख कोतवाल के आवास से चुपके से खिसके
शिकारपुर/बुलन्दशहर।
ब्लॉक प्रमुख चुनाव पर सत्तारूढ़ पार्टी के दबाव होने की वानगी शिकारपुर कोतवाली में देखने को मिली। यहां कोतवाली पुलिस ने भाजपा कार्यकर्ताओं की तरह कार्य करते हुए गैर भाजपाईयों को नामांकन पत्र खरीदने से रोकने के लिए पूरी ताकत झोंक दी ,लेकिन जब मामला उल्टा पड़ता दिखाई दिया तो पुलिस बैकफुट पर आ गई और राज्यमंत्री भी कोतवाल के आवास से चिपके से खिसक गये।
बुलन्दशहर में जिस प्रकार सत्तारूढ़ पार्टी ने जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी निर्विरोध कब्जाई है। उसी स्टाइल में शिकारपुर ब्लॉक प्रमुख की कुर्सी भी हड़पने की योजना बनाई गई है। जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में विरोधियों को रोकने की स्टाइल में ही ब्लॉक प्रमुख का चुनाव लड़ने वाले लोगों को रोकने की कोशिश की गई।
मंगलवार को शिकारपुर ब्लॉक प्रमुख का चुनाव लड़ने के लिए गांव मुकैरा निवासी बीडीसी सदस्या मोनिका देवी के पति हुकुम सिंह नामांकन-पत्र खरीदने के लिए क्षेत्र पंचायत कार्यालय जा रहे थे। आरोपित है कि रास्ते में भाजपा कार्यकर्ताओं के काफिले ने उनकी गाड़ी को ओवरटेक करके रोक लिया। पूर्व नियोजित कार्यक्रम के अनुसार भाजपा के आकाओं के इशारे पर एक व्यक्ति ने हुकुम सिंह के खिलाफ धमकी देने आदि की धाराओं में पुलिस को तहरीर दे दी। तहरीर के आधार पर तुरंत ही पुलिस पहुंच गई और हुकुम सिंह को हिरासत में लेने के बाद कोतवाली ले गई। जब इस घटना की भनक हुकुम सिंह के समर्थकों को लगी तो वह और गांव से अनेक महिलाएं कोतवाली पहुंच गईं और हंगामा शुरू हो गया। महिलाएं कोतवाली के अंदर धरने पर बैठ गईं।
बताया गया है कि इसी बीच पहले से मौजूद राज्यमंत्री अनिल शर्मा, कोतवाली प्रभारी निरीक्षक के कमरे में कोतवाल के साथ जाकर बैठ गए। जब महिलाओं को इसकी भनक लगी तो महिलाओं ने राज्यमंत्री के खिलाफ मुर्दाबाद के जमकर नारे लगाए। भाजपा कार्यकर्ताओं की स्टाइल में कार्य कर रही पुलिस के यह नजारा देख हाथ-पांव फूल गए। कई घंटे कोतवाली के अंदर और बाहर लोगों का जमावड़ा लगने के बाद पुलिस को हुकुम सिंह को छोड़ना पड़ा। बाद में हुकुम सिंह ने पत्रकारों को बताया कि पुलिस भाजपा के एजेंट के बतौर कार्य कर रही है। उन्हें नामांकन करने से रोका जा रहा है, लेकिन विरोधी अपने मंसूबों में सफल नहीं हो पाएंगे। उधर कोतवाली से लोग ब्लॉक परिसर पहुँचे और नामांकन पत्र मांगा। बहुत देर तक जद्दोजहद चलती गई और समर्थकों की संख्या बढ़ने लगी। यह नजारा देखकर मौके पर प्रभारी एसडीएम शिकारपुर विनीत कुमार उपाध्याय पहुँचे और मोनिका सिंह को नामांकन पत्र दिलाया, उसके बाद सभी पार्टी कार्यकर्ता एवं किसान नेता ब्लॉक से अपने घर रवाना हो गए। इस मौके पर नरेश चौधरी, धर्मेन्द्र सिंह, पिंटू प्रमुख, दयानंद सिंह राजकुमार, पिंटू गौतम पूर्व प्रधान रिवाड़ा तथा बड़ी संख्या में आसपास की जनता उपस्थित रही।

 232 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *