प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान….

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान….

जनपद में 1273 गर्भवती की हुई निःशुल्क जांच, 110 एचआरपी के लिए चिन्हित
जच्चा-बच्चा दोनों की सुरक्षा के लिए होता है उच्च जोखिम गर्भावस्था वाली महिलाओं का चिन्हीकरण
जनपद के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर हुई प्रसव पूर्व जांच
बुलन्दशहर।
कोरोना काल में स्वास्थ्य विभाग द्वारा गर्भवती को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएँ उपलब्ध कराने का प्रयास जारी है। जनपद के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर मातृ एवं शिशु मृत्यु दर को कम करने के लिए प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत हर गर्भवती की प्रसव पूर्व जाँच जाती है। इसमें पांच निशुल्क जांच (ब्लड टेस्ट, ब्लड प्रेशर, यूरिन टेस्ट, हीमोग्लोबिन, अल्ट्रासाउंड) की जाती हैं। इस माह आयोजित प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस में जनपद में 1273 गर्भवती की निशुल्क जांच की गयी, जिसमें 110 महिलाएं उच्च जोखिम गर्भावस्था (एचआरपी) वाली चिन्हित हुईं। गौरतलब है कि प्रत्येक माह की 9 तारीख को प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस मनाया जाता है। अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नरेश गोयल ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग का उद्देश्य है कि जन्म लेने वाले बच्चे और माता दोनों स्वस्थ्य रहें। इसके लिए अभियान के तहत दूसरी व तीसरी तिमाही की सभी गर्भवती की कम से कम एक जाँच वरिष्ठ चिकित्सक या प्रसूति एवं स्त्री विशेषज्ञ के द्वारा करायी जाती है। डॉ0 गोयल ने बताया कि प्रसव पूर्व देखभाल के लिए प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत शहरी व ग्रामीण क्षेत्र की सभी गर्भवती महिलाओं को सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर 10 बजे से 3 बजे के मध्य सेवाएं दी गई। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर गर्भवती की शरीर में खून की कमी, रक्त समूह, वजन, यूरिन, मधुमेह, एच.आई.वी., सिफलिस व अल्ट्रासाउंड जाँच कराई गई, ताकि प्रसव में होने वाले जोखिम की पहचान हो सके और समय रहते माँ व बच्चे दोनों को सुरक्षित किया जा सके। इस विशेष दिवस पर उच्च जोखिम वाली गर्भवती महिलाओं को चिन्हित कर विशेष स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए पंजीकृत किया गया। उन्होंने बताया आशा कार्यकर्ता समुदाय में चिन्हित गर्भवती महिलाओं को स्वास्थ्य केन्द्र लाकर उन्हें सुविधाओं का लाभ दिला रही हैं। जिला मातृत्व परामर्श दाता हिमांशु सचदेवा ने बताया अभियान के तहत अप्रैल माह में कुल 465 और जनवरी 2021 माह से अब तक 10719 गर्भवती को प्रसव पूर्व देखभाल की सेवाएं दी गई। इस माह 110 महिलाएं एचआरपी वाली चिन्हित हुई हैं। उन्हें उच्च चिकित्सा इकाई पर प्रबंधन और सुरक्षित संस्थागत प्रसव हेतु रेफर किया गया। उन्हें लगातार परामर्श की सुविधा दी जायेगी।

 82 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *