पत्रकारों के परिवारों को 50 लाख का मुआवजा और 20 हजार रुपए प्रतिमाह आर्थिक सहायता करे सरकार-अशोक कुमार निर्भय

पत्रकारों के परिवारों को 50 लाख का मुआवजा और 20 हजार रुपए प्रतिमाह आर्थिक सहायता करे सरकार-अशोक कुमार निर्भय

पत्रकारों को वैक्शीनेशन में प्राथमिकता दिये जाने के फैसले पर दिल्ली सरकार का किया स्वागत
नई दिल्ली।
विश्व पत्रकार महासंघ दिल्ली प्रदेश ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को पत्र लिखकर पत्रकारों को कोरोना योद्धा घोषित करके कोरोना से मरने वाले पत्रकारों के परिवारों को 50लाख रूपये का मुआवजा और 20 हजार रुपए प्रतिमाह आर्थिक सहायता देने की मांग की है। अपने पत्र में विश्व पत्रकार महासंघ दिल्ली प्रदेश (रजि.) के प्रभारी एवं वरिष्ठ पत्रकार अशोक कुमार निर्भय ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि विगत वर्ष मार्च से लेकर से अभी तक अपना फर्ज निभाते हुए कोरोना काल के भीतर हमारे सैंकड़ों पत्रकारों अथवा उनके परिवार के सदस्यों ने दम तोडा है। विकट परिस्थियों में भी कोरोना का सामना करते हुए हमारे दिल्ली के पत्रकार साथी भारी मानसिक और शारीरिक दवाब के बावजूद अपना कर्तव्यपूर्ण काम कर रहे हैं। हमारी मांग है कि उन्हें कोरोना वरियर्स का दर्जा दिल्ली सरकार द्वारा मिलना चाहिए। इस महामारी के दौर में पत्रकार अपनी जान हथेली पर रखकर अपना कार्य कर रहे हैं ,वो किसी कोरोना वरियर्स से कम नहीं है। पत्रकारों की खबरों और रिपोर्ट का ही नतीजा है कि आम लोग घरों में स्वस्थ्य रहकर महकमें की खबरें प्राप्त कर रहे हैं। लिखे पत्र में मुख्यमंत्री से मांग की गयी है कि पत्रकारों को भत्ते के रूप में बीस हजार रुपए प्रतिमाह अतिरिक्त दिया जाए। इस कोरोना काल में नौकरी गँवाने वाले पत्रकारों को बीस हजार प्रतिमाह आर्थिक सहयोग राशि के रूप में दिया जाए। साथ ही इस माहमारी में अपनी जान गँवाने वाले पत्रकार के परिजनों को 50 लाख रुपया मुआवजे के रूप में दिया जाये। वैसे कोरोना योद्धा के लिए दिल्ली सरकार ने एक करोड़ की राशि का प्रावधान पहले ही किया हुआ है, उसमें केवल पत्रकारों के लिए यह अध्यादेश लाकर यह क्लॉज जोड़ना है। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष कोरोना काल के आरम्भ से लेकर अभी तक पत्रकारों के हितों और उनके कल्याणार्थ जो भी संभव हो सका, वह कार्य हमारे प्रदेशाध्यक्ष विक्रम गोस्वामी और महासचिव एवं वरिष्ठ पत्रकार मणि आर्य के नेतृत्व में विश्व पत्रकार महासंघ,दिल्ली प्रदेश करता रहा है। हमने राशन वितरण से लेकर मेडिकल सुविधा भी सामर्थ्य अनुसार अपने निजी आय से बिना किसी सरकारी सहायता के लिए पत्रकारों के लिए इस आपदा के समय में उपलब्ध करायी है। जैसे राजधानी दिल्ली डॉक्टर्स, पुलिस, सफाईकर्मी, होमगार्ड, पैरामेडिकल स्टाफ कोरोना योद्धा बनकर जिस तरह सरहानीय मानवीय और राष्ट्रहित कार्य कर रहे है, उसके लिए इनकेक जज्बे को कोटि-कोटि नमन हैं। वैसे ही पत्रकार भी दिन-रात समाचारों और सूचनाओं को देश की जनता तक पंहुचा रहे हैं सरकार को उनके विषय में भी निर्णय लेना चाहिए। उन्होंने पत्रकारों को वैक्सीनेशन में प्राथमिकता दिए जाने के दिल्ली सरकार के फैसले का स्वागत भी किया है।

 236 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *