थाना रामघाट परिसर में महिला हेल्पलाइन का बैनर शौचालय के पास रखे होने पर रोषाक्त हुई एक लड़की

थाना रामघाट परिसर में महिला हेल्पलाइन का बैनर शौचालय के पास रखे होने पर रोषाक्त हुई एक लड़की

कहा- मेरे पिता की इतनी बड़ी बेइज्जती, मैं भी ऐसे अधिकारी का नहीं करूूंगी सम्मान
 गंदगी व टॉयलेट के पास रखे इस बोर्ड की थाना प्रभारी द्वारा की जा रही थी उपेक्षा
लड़की ने जब बोर्ड को थाना प्रभारी कार्यालय में रखा तो प्रभारी हुए आक्रोशित
बुलन्दशहर/डिबाई।
गुरूवार को थाना परिसर में गंदगी एवं टॉयलेट के पास रखे महिला हेल्पलाइन के बोर्ड को देख एक समाजसेविका बिफर पड़ी और उसने बोर्ड पर प्रिंटिड उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ की फोटो को पहले अपने दुपट्टे से साफ किया और फिर उस बोर्ड को ले जाकर थाना प्रभारी के ऑफिस में रख दिया। समाजसेविका का कहना है कि यहां की पुलिस ने सूबे के मुखिया की ये हालत कर रखी है और बोर्ड को अत्यंत गंदगी, जहंा टॉयलेट की बदबू और थूके गये गुटखा, तम्बाकू के पास रखा है। जो शर्म की बात है। उन्होंने कहा कि जब कोतवाल अपने ऑफिस को अच्छी तरह से रख सकते है तो इस बोर्ड को आखिर क्यों नही रखा? साथ ही लड़की ने कहा कि इतने बड़े थाने मे हमारे मुख्यमंत्री जी को अच्छी जगह स्थान और सम्मान नहीं है तो मैं भी ऐसे प्रशासन वालों का कोई सम्मान नहीं करुंगी। मैं इस देश की बेटी हॅू, अपने पिता तुल्य मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी जी का अपमान बिल्कुल सहन नहीं करुँगी। मेरे पिता का अपमान इस देश का अपमान है। बताया गया कि यह वीडियो लड़की ने खुद बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल किया हैं।जब उक्त प्रकरण में थाना प्रभारी से बातचीत की गयी तो कोतवाल महोदय के पास कहने को कुछ नही था और अनर्गल बातें करने लगे।जब थानों में प्रदेश के मुख्यमंत्री के बोर्ड या बैनर को ऑफिस से बाहर निकाल कर टॉयलेट के पास गंदगी में रख दिया गया हो तो क्या समझा जाये?इससे साफ जाहिर है कि कोतवाल वर्दी के गुरूर में मुख्यमंत्री का आदर सम्मान करना तक भूल गये,जहां ऐसे अधिकारी हो उस जिले,प्रदेश व देश का क्या हाल होगा?

 532 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *