डीजल-पेट्रोल महंगा कर उद्योगपतियों की कमाई की गाढ़ी -चौ0 श्यौपाल सिंह

डीजल-पेट्रोल महंगा कर उद्योगपतियों की कमाई की गाढ़ी -चौ0 श्यौपाल सिंह

बुलन्दशहर। शुक्रवार को कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी के आह्वान पर राष्ट्रीय सचिव धीरज गुर्जर और उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के निर्देश पर जिला कांग्रेस कमेटी बुलन्दशहर ने काला आम स्थित जालान पेट्रोल पंप पर डीजल-पेट्रोल के मूल्यों में हुई बेहताशा वृद्धि के विरोध में धरना दिया। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता कांग्रेस के जिलाध्यक्ष चौधरी श्यौपाल सिंह ने एवं संचालन आदर्श देव शर्मा ने किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि कच्चे तेल के दाम अंतर्राष्ट्रीय बाजार में काफी गिर चुके हैं,उस हिसाब से पेट्रोल- डीजल के दाम भी गिरने चाहिए थे ,मगर केंद्र में बैठी मोदी सरकार बजाएं दाम कम करने के डीजल पेट्रोल के दाम आए दिन बढ़ा देती है। सरकार ने पिछले एक वर्ष में डीजल-पेट्रोल पर टेक्स द्वारा ढाई लाख करोड़ रुपए कमाए हैं, जो पेट्रोल जून ,2020 में 71.25 रूपये था। आज वह 100 के पास पहुंच चुका है। डीजल पेट्रोल के दाम बढ़ाने में सरकार के मुखिया मोदी की बहुत बड़ी साजिश डीजल-पेट्रोल के दाम बढ़ाने के पीछे है ,क्योंकि उनके अंबानी जैसे दोस्त उद्योगपतियो की तेल कंपनियों को मोटा मुनाफा कमाने के लिए मोदी  आए दिन डीजल-पेट्रोल के दामों में बढ़ोतरी करते रहते हैं। आज पूरे देश पर कोरोना महामारी की विपदा की पड़ी है और इस संकट की घड़ी में भी मोदी सरकार को आम जनता पर रहम नहीं आ रहा है। वैसे ही सब लोग रोजी रोटी से हाथ धो चुके हैं। लोगों के व्यापार चौपट हो चुके हैं, लोग भुखमरी के कगार पर हैं ,ऐसे में सरकार को इंसानियत दिखाते हुए महंगाई पर नियंत्रण करना चाहिए था। डीजल-पेट्रोल के दाम कम करने चाहिए थे, मगर यहां मोदी सरकार असंवेदनशीलता का परिचय देते हुए लोगों के साथ अन्याय कर रही है।उन्हांेने यह भी कहा कि वतन के हालात अगर बताने लगेंगे, तो पत्थर भी आंसू बहाने लगेंगे।इंसानियत खो गई भीड़ में उसे ढूंढने में जमाने लगेंगे।
वही धरनारत सुशील चौधरी ने कहा कि जब यूपीए की सरकार थी ,मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे तो भाजपा के सभी बड़े नेता डीजल-पेट्रोल के ऊपर आए दिन विरोध कर कहते थे कि हमारी सरकार आएगी तो पेट्रोल 35 रूपये प्रति लीटर करने का काम करेंगे और जबकि मनमोहन सिंह सरकार के रहते हुए अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम 135 डॉलर प्रति बैरल था ,उसके बावजूद भी पेट्रोल के दाम 65 रूपये प्रति लीटर और डीजल के दाम 42 रूपये प्रति लीटर थे। इस पर भी भाजपा के नेता आए दिन विरोध प्रदर्शन करते रहते थे ,जबकि आज अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत 70 रूपये प्रति बैरल रह गई है ,उस हिसाब से डीजल-पेट्रोल के दाम आधे हो जाने चाहिए थे। मुनीर अकबर ने कहा कि-खा गया सब्सिडी, पी गया तेल, यह देखो जुमलेबाजी का खेल।
कार्यक्रम में चौधरी श्यौपाल सिंह ,महेश शास्त्री ,देवेंद्र शर्मा एडवोकेट ,शिव कुमार सोलंकी, मुनीर अकबर ,राहुल गोविल ,आदर्श देव शर्मा ,देव रंजन नागर ,प्रशांत बाल्मीकि ,धर्म सिंह ,चौधरी आस मोहम्मद ,ओम प्रकाश शर्मा प्रशांत जौहरी मनीष चतुर्वेदी दुष्यंत गुप्ता उमा महेश मुन्ना कुरैशी गौतम पंडित कैफी फैसल जियाउर रहमान सुरेंद्र उपाध्याय आरिफ कुरैशी आदि मौजूद रहे।

 90 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *