जुमा अलविदा में नमाजियों ने कोरोना महामारी के खात्मे के लिए दुआं मांगी

जुमा अलविदा में नमाजियों ने कोरोना महामारी के खात्मे के लिए दुआं मांगी

जहॉंगीराबाद/बुलन्दशहर। पवित्र रमजान उल मुबारक माह के जुमा अलविदा की नमाज शासन के आदेश पर मस्जिदों में पांच लोगों की सोशल डिस्टेंस में अता की गयी और रोजेदारों ने देश में तेजी से चल रही कोरोना वायरस से निजात के लिए दुआ मांगी। रमजान मुबारक का यह आखिरी जुमा है ,जिससे अलविदा जुमा कहा जाता है। पालिका ने मस्जिदों के आसपास सफाई व्यस्था सुचारू रूप से कराई। वही मस्जिद की इंतजामिया कमेटियों ने मस्जिदों में नमाजियों के लिए मास्क व सेनिटाइजर की व्यवस्था की और शासन के आदेशों का पालन करते हुए मस्जिदों के अंदर पांच ही लोगों ने सोशल डिस्टेंस से जुमा अलविदा की नमाज अता कर कोरोना महामारी के खात्मे के लिए दुआ मांगी।
रमजान मुबारक माह के अलविदा जुमा का एक अलग ही महत्व होता है क्योकि पाक रमाजान माह रूखसत होता है, इसको लेकर लोगों में खास उत्साह देखने को मिला, जो रोजेदार रमजान माह के दिनों में रोजे नही रखते हैं ,वह भी जुमा अलविदा के दिन रोजा जरूर रखते हैं और साफ-सुथरे कपडे पहनकर नमाज पढते है ,यहा तक कि छोटे-छोटे बच्चे भी नमाज पढ़ते है और रमजान रखते है। जामा मस्जिद के इमाम मौलाना अल्लानूर व शहर इमाम डॉ0 सैयद कलीमुर्रहमान बुखारी ने अलविदा जुमा पर कहा कि रमजान के मुबारक महीने का जो आखिरी जुमा को अलविदा जुमा कहते है ,क्योकि रमजान माह अब हमसे रूखसत होने जा रहा है। उन्हांेने बताया कि यह पाक महीना रहमत व बरकतों का महीना है। इस महीने में अल्ला ताला अपने बन्दों के लिए दोजख के दरवाजे बन्द कर जननत के दरवाजे खोल कर रहमतों की बारिश करता है और यह महीना बुरे काम से रोकता है और इस महीने में जकात, फितर भी लोग निकालते है।

 108 total views,  4 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *