जिलाधिकारी ने कांवड़ यात्रा की तैयारियों के संबंध में बैठक आहूत की

जिलाधिकारी ने कांवड़ यात्रा की तैयारियों के संबंध में बैठक आहूत की

कोरोना संक्रमण के कारण कम से कम ही श्रद्धालू यात्रा में शामिल हो-डीएम
बुलन्दशहर।
गुरूवार को जिला पंचायत सभागार में श्रावण मास में होने वाली कांवड यात्रा की तैयारियों के संबंध में जिलाधिकारी रविन्द्र कुमार की अध्यक्षता में बैठक आहूत की गई। बैठक में उपस्थित हिन्दू धर्मगुरूओं एवं संभ्रान्त नागिरकों से जिलाधिकारी ने अपील करते हुए कहा कि वर्तमान मंे कोरोना संक्रमण होने के दृष्टिगत कांवड यात्रा में जनहित में कम से कम श्रद्धालुओं द्वारा ही प्रतिभाग किया जाना बेहतर होगा। इसके साथ ही ऐसे व्यक्ति ,जो पूर्व में कोविड संक्रमित हुए है या बीमारी से ग्रसित हैं ,वह भीड़-भाड वाली जगहों से दूर रहें। उन्होंने कांवड यात्रा में जल चढ़ाने वाले श्रद्धालुओं से अपील की कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सोशल डिस्टेंसिंग, फेस मास्क, हैंड सेनिटाइजर आदि उपायों को किया जाये। जलाभिषेक होने वाले मन्दिरों में भी श्रद्धालुओं के मध्य सोशल डिस्टेंसिंग सहित कोविड नियमों का पालन कराये जाने के लिए व्यवस्थायें सुनिश्चित की जाये। हिन्दू धर्मगुरूओं से भी अपने-अपने क्षेत्रों में श्रद्धालुओं से कोविड संक्रमण से बचाव के लिए सावधानी बरतने के साथ ही लोगों को जागरूक करने के लिए अपील करने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि मन्दिर परिसर में भीड़ को नियंत्रित करने के लिए बैरिकेडिंंग करने के साथ ही समुचित व्यवस्थाओं को सुनिश्चित कराया जाये। 18 वर्ष से अधिक आयु के ऐसे व्यक्ति जिनके द्वारा वैक्सीनेशन नहीं कराया गया हैं ,उनसे वैक्सीनेशन कराये जाने की अपील की गई। कांवड शिविर लगाने वाले समितियों के सदस्यों से अपील की गई कि वह अपने शिविर में यह सुनिश्चित कर लें कि शिविर में सेवा देने वाले कोई भी व्यक्ति कोरोना संक्रमित नहीं है या उसमें किसी भी प्रकार के लक्षण तो नहीं है, जिससे शिविर में आने वाले श्रद्धालुओं में कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा न रहे। इसके साथ ही शिविरों में खुले हाथों से भोज्य पदार्थ का वितरण न कराया जाये, अपितु स्वास्थ्य विभाग को निर्देशित किया गया कि शिविरों में लोगों की स्वास्थ्य जांच भी करायी जाये। उत्तराखण्ड राज्य में जल लेने जाने वाले श्रद्धालुओं से अपील की गई कि उत्तराखंड राज्य द्वारा निर्धारित किये गये कोविड नियमों का पालन करने के उपरान्त ही जल लेने हेतु जायें।
जिलाधिकारी द्वारा बैठक में उपस्थित राजस्व-पुलिस विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि जलाभिषेक होने वाले मन्दिरों पर भीड़ को नियंत्रित करने तथा सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने के लिए बैरिकेडिंंग आदि व्यवस्थाओं को सुनिश्चित कराया जाये। साथ ही सुरक्षा के दृष्टिगत पुलिस की ड्यूटी भी लगायी जाये। लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि कांवड मार्गो पर गड्ढे होने पर उनकी तत्काल मरम्मत करायी जाये। साथ ही मार्ग पर कंकरीट या कांच इत्यादि होने के दृष्टिगत सफाई भी करायी जाये। उक्त के अतिरिक्त कांवडि़यों की संख्या एवं मार्ग की चौड़ाई का आंकलन करते हुए आवागमन की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित करायी जाये। नगरीय क्षेत्रों एवं ग्रामीण क्षेत्रों में आने वाले कांवड मार्गो पर साफ-सफाई व्यवस्था सुनिश्चित कराये जाने के निर्देश ईओ, डीपीआरओ को दिये गये। विद्युत विभाग को निर्देशित किया गया कि कांवड मार्गो पर जर्जर विद्युत के तारों एवं ढीले तारों की मरम्मत करायी जाये, इसके साथ ही कांवड शिविरों एवं मन्दिरों पर अस्थायी रूप से विद्युत की व्यवस्था करने पर वहां पर यह सुनिश्चित कराया जाये कि विद्युत के तार खुले में न रहे। खाद्य विभाग को निर्देशित किया गया कि कांवड शिविरों का निरीक्षण करते हुए कांवडि़यों को दिये जाने वाले भोज्य पदार्थो का परीक्षण कराते हुए यह सुनिश्चित कराया जाये कि किसी भी दशा में कांविड़यों को बासी अथवा संक्रमित भोज्य पदार्थ न दिया जाये। राजस्व-पुलिस विभाग को निर्देशित किया गया कि गंगा घाटों पर श्रद्धालुओं को नियंत्रित करने के लिए बैरिकेंिडग, गोताखोर की तैनाती, सुरक्षा के दृष्टिगत पुलिस बल की तैनाती सहित समुचित व्यवस्थाओं को सुनिश्चित कराया जाये।साथ ही घाटों पर कन्ट्रोल रूम बनाया जाये ,जिसके माध्यम से निरन्तर कोविड नियमों का पालन करने के साथ ही घाट पर भीड़ एकत्रित न होने के संबंध में पब्लिक एड्रेस सिस्टम से एनाउन्समेन्ट कराया जाये। सीएमओ को निर्देशित किया गया कि कांवड मार्गो एवं गंगा घाटों के आसपास स्थित सामुदायिक एवं प्राथमिक चिकित्सालयों पर पर्याप्त मात्रा में औषधियों की उपलब्धता सुनिश्चित करायी जाये, ताकि किसी भी अप्रिय घटना होने की दशा में समुचित उपचार तत्काल उपलब्ध कराया जा सके। नगर निकाय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में शिवालयो के आसपास विशेष सफाई व्यवस्था एवं मार्ग प्रकाश की व्यवस्था सुनिश्चित कराये जाने हेतु ईओ नगर पालिका एवं जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देशित किया गया।
बैठक में उपस्थित एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने पुलिस अधिकारियों को निर्देशित किया कि वह थानावार विगत 10 वर्षो के कांवड यात्रा के संबंध में हुई घटनाओं का अध्ययन कर संज्ञान में लेते हुए ऐसे स्थानों पर संयुक्त रूप से अन्य संबंधित विभागीय अधिकारियों के साथ आवश्यक व्यवस्थायें एवं निरोधात्मक कार्यवाही समय से सुनिश्चित करायी जाये। इसके साथ ही रामघाट, राजघाट, अनूपशहर एवं आहार क्षेत्रों में गंगा घाटों पर आने-जाने वाले मार्गो की व्यवस्था लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों के साथ भ्रमण करते हुए सुनिश्चित करायी जाये। पूर्व में कांवड यात्रा के दौरान जिन स्थानों पर सड़क दुर्घटनायें हुई हैं, उन स्थानों पर दुर्घटनाओं को रोकने के लिए संकेतक लगाये जाने के साथ ही समुचित व्यवस्था सुनिश्चित करा ली जाये। थानावार शान्ति समिति की बैठक करते हुए संभ्रान्त लोगों से कोविड नियमों का पालन कराये जाने के साथ ही कांवड के दौरान शान्ति बनाये रखने की अपील कर ली जाये। कांवड मार्गो पर अनाधिकृत रूप से मांस बेचने वालों की दुकानों को प्रतिबन्धित/कवर्ड कराये जाने की नियमानुसार कार्यवाही सुनिश्चित की जाये। सुरक्षा के दृष्टिगत कांवड मार्गो पर पुलिस की ड्यूटी भी लगाई जाये। उन्होंने कहा कि ऐसे घाटों का भी चिन्हांकन कर लिया जाये, जहां पर पूर्व में डूबने से घटना हुई हैं ,वहां पर विशेष बैरिकेडिंंग, नाव, गोताखोरों की व्यवस्था सुनिश्चित करायी जाये। बैठक में सीएमओ डॉ0 भवतोष शंखधर, अपर जिलाधिकारी सहदेव कुमार मिश्र, अपर जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार, तीनों एसपी सहित समस्त उप जिलाधिकारी, क्षेत्राधिकारी, थानाध्यक्ष संबंधित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित रहे।

 146 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *