जनपद न्यायाधीश द्वारा मोबाइल वैन को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

जनपद न्यायाधीश द्वारा मोबाइल वैन को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

10जुलाई को होने वाली राष्ट्रीय लोक अदालत का विभिन्न तहसील क्षेत्रों में किया जाएगा प्रचार-प्रसार
आपसी सुलह समझौते के आधार पर राष्ट्रीय लोक अदालत में किया जाएगा मुकदमों का निस्तारण – सुमन तिवारी’
बुलन्दशहर
। राष्ट्रीय लोक अदालत के आयोजन जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है, प्रचार-प्रसार उतना ही तेजी पकड़ रहा है। राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा विशेष सहयोग दिया जा रहा है। जिसके चलते बुधवार को जनपद न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा मोबाइल वैन को प्रचार हेतु हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया ,जो जनपद की विभिन्न तहसील क्षेत्रों में प्रचार-प्रचार करेगी, जिससे अधिक से अधिक लोग एवं अधिवक्तागण राष्ट्रीय लोक अदालत में अपने वादों का निस्तारण करा सकें एवं लोगों को समय एवं धन की बचत करा सकें।
बताया जाता है कि आगामी 10जुलाई को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जाएगा, जिसके लिए भेजी गई मोबाइल वैन का जनपद न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया ,जिसमें अनेक न्यायाधीश एवं अधिवक्तागण उपस्थित रहे। जिला एवं सत्र न्यायालय स्थित विधिक सेवा प्राधिकरण में प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया, जिसके दौरान सचिव सुमन तिवारी ने बताया कि आगामी 10जुलाई 2021 को जिला एवं सत्र न्यायालय बुलन्दशहर में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है ,जिसमें सभी प्रकार के काफी समय से लंबित चल रहे मुकदमों की सुनवाई की जाएगी ,जिसके लिए बुधवार को जिला जज/अध्यक्ष डॉ0 अजय कृष्ण विश्वेश द्वारा एक मोबाइल वैन को भी हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया, जिसके द्वारा जनपद की सभी तहसीलों पर पहुंचकर राष्ट्रीय लोक अदालत की जानकारी देना है ,जिससे कि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक 10 जुलाई को लगने वाली राष्ट्रीय लोक अदालत का पता लग सके। राष्ट्रीय लोक अदालत के माध्यम से सिविल के मुकदमे दीवानी, फौजदारी, क्रिमिनल, इलेक्ट्रीसिटी एक्ट एवं बैंक से संबंधित जैसे विभिन्न मुकदमों की सुनवाई जायेगी। 10जुलाई को लगने वाली इस राष्ट्रीय लोक अदालतों में सुलह समझौते के तौर पर विभिन्न मुकदमों की सुनवाई की जाएगी ,जिससे कि लोगों को ज्यादा न्यायालय के चक्कर न लगाने पड़े। इसी के लिए राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है, साथ ही उन्होंने बताया कि अभी तक करीब 15000 से ज्यादा फाइलें सुनवाई हेतु लगाई जा चुकी हैं, जिनकी राष्ट्रीय लोक अदालत के माध्यम से सुनवाई किया जाना है ,साथ ही यह भी देखना होगा कि 15,000 से ज्यादा लगी इन फाइलों में कितने लोग राष्ट्रीय लोक अदालत के माध्यम से अपने मुकदमे की सुनवाई हेतु आते हैं और कितने नहीं इसकी जानकारी राष्ट्रीय लोक अदालत के समापन के बाद दी जाएगी।

 146 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *