कोविड निगरानी समितियों की बैठक संपन्न

कोविड निगरानी समितियों की बैठक संपन्न

बुलन्दशहर/डिबाई। नगर पालिका परिषद के 25वार्डों में कोविड निगरानी समितियों की बैठक संपन्न हुई। इस बैठक का आयोजन जिलाधिकारी द्वारा नियुक्त निगरानी समिति के नोडल अधिकारी पीएस गौतम द्वारा नगर पालिका परिषद डिबाई प्रांगण में किया गया। बैठक में कस्बा के विभिन्न वार्डों के निगरानी समिति के अध्यक्षों के अतिरिक्त उप जिलाधिकारी मोनिका सिंह, नगर पालिका अध्यक्ष कायम गाजी, नगर पालिका अधिशासी अधिकारी शमशेर सिंह एवं विधायक प्रतिनिधि पीपी सिंह उपस्थित रहे।
बैठक में प्रत्येक वार्ड की कोरोना संबंधी जानकारी नोडल अधिकारी ने प्राप्त की। उन्होंने बताया कि प्रत्येक निगरानी समिति के अध्यक्ष का यह दायित्व है कि वे अपने वार्ड से संबंधित एक रजिस्टर तैयार करें, जिसमें वे बुखार या ऑक्सीजन की कमी या कोरोना लक्षणों से पीडि़त व्यक्तियों का डाटा दर्ज करें और उसकी सॉफ्ट कॉपी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी को उपलब्ध करायें। इस कार्य हेतु प्रत्येक निगरानी समिति के अध्यक्ष को एक-एक पल्स ऑक्सीमीटर शुक्रवार तक नगर पालिका परिषद द्वारा उपलब्ध करा दिया जाएगा।उन्होंनने कहा कि वार्ड निगरानी समिति सदस्य और अन्य जागरूक लोग अन्य नगरों से आने वाले लोगों की भी जानकारी रखें और उसकी सूचना शासन को अथवा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा अधिकारी को उपलब्ध कराएं।
उन्होंने कहा कि गंभीर रोगों से पीडि़त व्यक्ति जो उपचार के लिए बाहर जाते हैं, उनका डाटा भी अपने पास रखें और उपचार के बाद जब वह घर लौटते हैं, उनकी सूचना भी संबंधित अधिकारी को उपलब्ध करायें जिससे उनकी कोरोना की जांच हो सके। बाहरी अस्पतालों में उपचार के दौरान उनके संक्रमित होने की संभावना अधिक बढ़ जाती है। इसके अतिरिक्त जो व्यक्ति होम आइसोलेशन में रह रहे हैं ,उनकी सूचना भी स्थानीय चिकित्सा अधिकारी को उपलब्ध कराएं।
उप जिलाधिकारी मोनिका सिंह ने बताया कि डिबाई विकास खंड कार्यालय को ऑक्सीजन गैस सिलेंडर केंद्र बनाया गया है। यहां जन सामान्य हेतु ऑक्सीजन के सिलेंडर की उपलब्धता रहेगी। ऑक्सीजन केंद्र से कोई भी व्यक्ति घरेलू उपचार हेतु ऑक्सीजन सिलेंडर प्राप्त कर सकेगा। इसके लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा अधीक्षक डॉ0 हेमंत गिरी से पहले अपनी जांच करानी होगी। यदि उनकी जांच में रोगी के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता प्रतीत होती है तो वे अपनी रिपोर्ट विकास खंड केंद्र पर बने ऑक्सीजन केंद्र को प्रेषित करेंगे, जहां से खाली सिलेंडर जमा करने पर 500 रूपये में भरा हुआ सिलेंडर रोगी के परिजनों को प्राप्त हो सकेगा। इसके लिये रोगी और परिवार के किसी व्यक्ति के आधार कार्ड की छायाप्रति जमा करनी होगी। साथ ही गैस की कीमत के अतिरिक्त 2000 प्रतिभूति हेतु जमा करने होंगे, जिन लोगों के पास खाली सिलेंडर नहीं है, उन्हें प्रतिभूति के रूप में 3000 और 500रूपये गैस मूल्य के जमा करने होंगे। यह सिलेंडर सात दिन के अंदर ऑक्सीजन केंद्र को वापस करना होगा।
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा अधीक्षक डॉ0 हेमंत गिरी ने बताया कि टीकाकरण के बारे में अधिक से अधिक लोगों को जागरूक करें। 45 वर्ष से ऊपर के लोगों को अधिकाधिक टीका लगवाने के लिए  प्रेरित करें। साथ ही बतायें कि टीकाकरण के उपरांत कोरोना से संक्रमित होने की संभावनाएं लगभग नगण्य हो जाती हैं। यदि कोई संक्रमित हो भी जाता है तो सामान्य उपचार के बाद वह स्वस्थ हो जाता है। उन्होंने बताया कि अब प्रथम टीके के बाद दूसरा टीका लगवाने की अवधि 84 दिन कर दी गई है। अतः प्रथम टीका लगने के 84 दिन बाद ही द्वितीय टीकाकरण हेतु लोग चिकित्सालय में आएं।

 120 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *