कोरोना पॉजिटिव मरीजों के इलाज और कोविड से मारने वालों के अंतिम संस्कार में पारदर्शिता लाये सरकार

सरकार को देश के तमाम कोविड-19 हॉस्पिटल में उपचाराधीन रोगियों के पास सीसीटीवी कैमरे मुहैया कराये जाए
कोरोना से मरने वालों के शरीर से निकाले जा रहे अंग, सोशल मीडिया में हो रहा दावा
सोशल मीडिया पर विभिन्न प्रकार के वीडियो हो रहे हैं वायरल, जिससे लोगों के जेहन में पनप रहा भ्रम व भय

गुलावठी/बुलन्दशहर। देश में कोरोना महामारी के कारण जिस प्रकार के हालात बने हुए हैं। उसी तरीके से लोग अस्पतालों में जाकर कोरोना का टीका लगवाने और इलाज कराने से भी कतरा रहे हैं। क्योंकि सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफॉर्म पर अलग-अलग प्रकार के वीडियो रोजाना वायरल हो रहे हैं, जिनमें दावा किया जा रहा है कि कोरोना मरीजों का अस्पतालों में सही तरीके से इलाज नहीं किया जा रहा और जिनकी अस्पताल में कोरोना से मौत हो रही है। अस्पताल कर्मी उनके पोस्टमार्टम के दौरान शरीर से अंगों को निकाल कर बेच रहे हैं। ऐसा हम नहीं कह रहे ,बल्कि सोशल मीडिया में फैलाये जा रहे भ्रम के कारण लोगों के जेहन में डर पनप रहा है, जिसको दूर करने के लिए सरकार को देश के तमाम अस्पतालों और कोविड-19 हॉस्पिटलों में उपचाराधीन रोगियों के पास सीसीटीवी कैमरे मुहैया कराने चाहिए, ताकि मरीज के स्वजन या तमीरदार दूर बैठकर अपने मरीज के उपचार के दौरान चिकित्सकों के बर्ताव और उपचार के तरीकों को देख और जान सकें। साथ ही कोरोना से मरने वाले मरीजों के शव यदि उनके स्वजनों को न सौंपे जाये तो उनकी अंत्योष्टि/अंतिम संस्कार भी मरीज के स्वजनों को वीडियो अथवा फुटेज में दिखाकर करना चाहिए, इससे लोगों में फैल रहा भ्रम दूर होगा। इसके अलावा कोरोना पॉजिटिव आने वाले लोग आसानी से इलाज कराने के लिए खुद को अस्पताल तक ले जा सकेंगे और जाने में उन्हें कोई आपत्ति अथवा परहेज भी नहीं होगा। हालांकि फिलहाल के हालातों में और सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों के अनुसार वर्तमान में लोग अपने परिवार के कोरोना पॉजिटिव हुए सदस्यों की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं। यदि सरकार इस तरफ भी ध्यान दें और कोई फैसला लेती है तो यह काफी मददगार साबित होगा।

 226 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *