कोरोना काल में क्षय रोगी सेहत का रखें खास ख्याल

कोरोना काल में क्षय रोगी सेहत का रखें खास ख्याल

दवा लेने में न करें परहेज, खानपान का रखें ध्यान
कोरोना से बचाव के नियमों का करें पालन
बुलन्दशहर।
वैसे तो कोरोना काल में सभी को सतर्कता बरतना बेहद जरूरी है, लेकिन टीबी (क्षय) के रोगियों को विशेष सावधानी की जरूरत है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ0 भवतोष शंखधर का कहना है कि कोविड-19 के दौरान विशेषकर उन मरीजों को जो पहले से फेफड़ों की समस्या से जूझ रहे हैं या लगातार दो सप्ताह से खांसी, तेज बुखार के साथ पसीना (विशेषकर रात में), कमजोरी, भूख न लगना आदि लक्षण अगर किसी भी व्यक्ति में दिखाई दें तो तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर बलगम की निःशुल्क जांच कराकर चिकित्सक की निगरानी में उपचार शुरू करें। जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ0 सीपीएस गौतम ने बताया कि जनपद में 01अप्रैल 2021 से 31 मार्च 2021 तक कुल 8452 जबकि 1 अप्रैल से अब तक 845 नए टीबी मरीजों को खोजकर इलाज शुरू किया गया है। कोविड-19 के साथ-साथ टीबी उन्मूलन के लिए जिला स्तर से लेकर ब्लॉक स्तरीय अभियान चलाये जा रहे हैं ताकि कोरोना काल में भी टीबी उन्मूलन की गति धीमी न पड़े। इसके लिए गठित टीम के माध्यम से वार्ड व ब्लॉक स्तर पर लोगों को टीबी व उसके इलाज के संबंध में जानकारी दी जा रही है द्य हर माह की नौ तारीख को मनाये जाने वाले प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत गर्भवती की टीबी की विशेष जाँच की जा रही है। जनपद में जिला अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र डिबाई, जहांगीराबाद, स्याना, बीबी नगर, गुलावठी सहित लखवटी में एक-एक ट्रू नाट मशीन उपलब्ध है, जिससे टीबी रोगियों का निदान व उपचार जल्द से जल्द किया जा सके। रोगियों का बलगम मुख्यालय भेजने व रिपोर्ट आने में 10 -15 दिन लग जाते थे , लेकिन ट्रू नाट मशीन द्वारा दवा का असर पता कर ब्लॉक पर ही 24 घंटे में उचित उपचार शुरू किया जाता है।
टीबी के लक्षण
दो सप्ताह या उससे अधिक समय से लगातार खाँसी का आना, खाँसी के साथ बलगम में खून का आना, बुखार आना विशेष रूप से रात को, वजन का घटना, भूख कम लगना, सीने में दर्द आदि इसके मुख्य लक्षण हैं। अगर हड्डी की टीबी है तो उस मरीज के हड्डी में या उसके पास दर्द होगा। गिल्टी की टीबी है तो वहां ग्लैंड बढ़ जाती है। ऐसे में तुरंत ही टीबी की जांच करानी चाहिए। इसके साथ ही छोटे बच्चे का विकास रुक जाना, बच्चे का चिड़चिड़ा हो जाना यह लक्षण भी टीबी के हो सकते हैं। इनमें से कोई भी लक्षण नजर आयें तो तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर बलगम की निःशुल्क जांच कराएं। इलाज और नियमित दवा का सेवन प्रयोग कर ही इस बीमारी से बचा जा सकता है । उन्होंने कहा कि समस्त मल्टी ड्रग रेजिस्टेंस (एमडीआर) मरीजों को फोन से संपर्क कर दवा न होने पर उनको दवा भी नजदीकी ब्लॉक के टीबी यूनिट के माध्यम से टीबी मरीज तक पहुंचाई जा रही है।
इम्युनिटी को करें मजबूत
टीबी से बचाव के लिए इम्युनिटी को मजबूत रखें जिसके लिए न्यूट्रिशन से भरपूर खासकर प्रोटीन डाइट (सोयाबीन, दालें, मछली, अंडा, पनीर आदि) लेनी चाहिए। साथ ही दूध, ताजे फल, गुनगुना पानी पीने में प्रयोग करें। कमजोर इम्युनिटी से टीबी का प्रभाव ज्यादा होता है। कई बार मजबूत इम्यूनिटी वाले शरीर में भी टीबी हो जाती है लेकिन इम्युनिटी मजबूत होने से उन्हें प्रभावित नहीं कर पाता।
कोरोना संक्रमण से बचाव
क्षय रोगियों में कोरोना संक्रमण का खतरा अन्य मरीजों से कई गुना ज्यादा होता है। इस लिए क्षय रोगी बेवजह बाहर न जायें, बेहद जरूरी हो तभी घर से बाहर निकलें। दोहरे मास्क का इस्तेमाल व मानव दूरी का पालन करना सभी के लिए जरूरी हैघ्। टीबी के मरीज भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें। दूषित जगहों से भी टीबी के मरीजों को दूर रहना चाहिए। क्षय रोगी घर में भी मास्क पहनकर रहें। मास्क नहीं है तो हर बार खांसने या छींकने के समय साफ कपड़े को मुंह पर अवश्य लगाएँद्य टीबी के मरीज यहां-वहां न थूकें जिससे अन्य लोग प्रभावित न हो सकें। टीबी मरीज द्वारा इस्तेमाल की वस्तुओं को परिवार के अन्य सदस्यों को प्रयोग नहीं करना चाहिए।

 82 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *