आठ दिन से पेराई बन्द होने से नाराज किसानों ने डिप्टी सीसीओ को बनाया बंधक

आठ दिन से पेराई बन्द होने से नाराज किसानों ने डिप्टी सीसीओ को बनाया बंधक

रालोद नेता सुनील चरौरा के नेतृत्व में किसानों ने दिया धरना
मरम्मत में लगे करोड़ों रुपए, फिर भी शुगर मिल बीमार
जहॉंगीराबाद/बुलन्दशहर।
दि किसान सहकारी चीनी मिल लिमिटेड अनूपशहर की खस्ता हालत का खामियाजा क्षेत्र के किसान भुगत रहे हैं। पिछले एक सप्ताह से मिल में तकनीकी कमी के कारण पेराई बन्द पड़ी है, जिसके कारण गन्ना किसान भीषण गर्मी में भी मिल में गन्ने से भरे ट्रैक्टर-ट्रॉली लेकर डेरा जमाए हुए हैं। मिल के सही होने का इंतजार कर रहे किसानों का सब्र का बांध शुक्रवार को टूट गया और बड़ी संख्या में गन्ना किसानों ने रालोद नेता व पूर्व जिला पंचायत सदस्य सुनील चरौरा के नेतृत्व में चीनी मिल में प्रदर्शन किया। गुस्साये किसानों ने उपमुख्य गन्ना अधिकारी को भी बंधक बना लिया और मिल के चीफ इंजीनियर को मौके पर बुलाने की मांग की। बार-बार बुलाने पर भी चीफ इंजीनियर मौके पर नहीं पहुंचे ,जिसके बाद किसानों का पारा सातवें आसमान पर चढ़ गया और उन्होंने मिल प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। शासन द्वारा जहाँगीराबाद क्षेत्र स्थित चीनी मिल की मरम्मत के लिए प्रत्येक वर्ष करोड़ों रुपए आवंटित किए जाने के बाद भी मिल खस्ताहाल ही है। बताया जा रहा है कि विगत 01मई से मिल में टर्बाइन खराब होने के कारण पेराई का कार्य अधर में लटका हुआ है। जिसके कारण सैकड़ों गन्ना किसानों का गन्ना मिल परिसर में ट्रॉलियों में लदा हुआ ही सूख रहा है। मिल की तकनीकी कमी दूर होने के सम्बंध में चीनी मिल प्रशासन की ओर से कोई संतुष्टिपूर्ण उत्तर न मिलने पर किसान आग बबूला हो गए। शुक्रवार को गन्ना किसानों ने रालोद नेता व पूर्व जिला पंचायत सदस्य सुनील चरौरा के नेतृव में चीनी मिल में डेरा डाल दिया। किसानों ने प्रदर्शन करते हुए उपमुख्य गन्ना अधिकारी ब्रह्मप्रकाश सिंह को भी बंधक बना लिया। गन्ना किसान बार बार चीफ इंजीनियर को मौके पर बुलाने की मांग करते रहे, लेकिन चीफ इंजीनियर मौके पर नहीं पहुंचे। वहीं मिल में फैली अव्यवस्थाओं को भी किसानों ने प्रशासन की लापरवाही करार दिया। किसानों का आरोप है कि मिल में पेराई बन्द होने के कारण उनका गन्ना इस भीषण गर्मी में सूख रहा है। वर्तमान पेराई सत्र में कई बार मिल बन्द होने के कारण गन्ने की पर्ची मिलने और उस पर तौल कराने में भी किसानों को समस्या होती है। यहां तक कि इस भीषण गर्मी में मिल परिसर के नल भी खराब पड़े हैं ,जिसके कारण पीने योग्य पानी के लिए भी किसानों को भटकना पड़ रहा है।

 200 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *