अध्यक्ष के नामांकन से पूर्व जिले में पुलिस की बड़ी कार्यवाहीः-बुलन्दशहर से 20 जिला पंचायत सदस्य गिरफ्तार

अध्यक्ष के नामांकन से पूर्व जिले में पुलिस की बड़ी कार्यवाहीः-बुलन्दशहर से 20 जिला पंचायत सदस्य गिरफ्तार

जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में शासन का बड़ा खेल
सपा, बसपा एव रालोद के सदस्य धारा 144 में किये गिरफ्तार
पुलिस पर लगा शासन की शह पर मनमानी करने का आरोप
सिकन्द्राबाद इलाके में हुई बड़ी गिरफ्तारी से मचा हड़कम्प
बुलन्दशहर (ओंकार भारद्वाज)
।शुक्रवार को सिकन्द्राबाद क्षेत्र के ग्राम पीर बियाबानी में उस समय अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया,जब शासन व प्रशासन के इशारे पर सीओ सिकन्द्राबाद के नेतृत्व में भारी पुलिस बल चन्द्रकांता महाविद्यालय पहुंचा और वहां जिला पंचायत अध्यक्ष पद हेतु भरे जाने वाले नामांकन की मंत्रणा के लिये इकट्ठे हुए अध्यक्ष पद प्रत्याशी आशा यादव के समर्थकों को हिरासत में ले लिया। जब वहां मौजूद रालोद पदाधिकारी चौ0 बिजेन्द्र सिंह ने सीओ से हिरासत में लेने का कारण पूछा तो सीओ ने बताया कि आप लोगों ने धारा 144 का उल्लंघन किया है और न ही आपके पास बैठक करने की कोई परमीशन है। उसके बाद पुलिस अभिरक्षा में उक्त सभी 25-30 लोगों को पुलिस उठाकर सिकन्द्राबाद थाने ले गयी। समाचार लिखे जाने तक उक्त सदस्यों का कोई समाधान नहीं हो पाया है।
शासन के निर्देश पर जिला पंचायत अध्यक्ष पद हेतु आज नामांकन प्रक्रिया पूरी होनी थी, जिसके परिपेक्ष्य में शुक्रवार को सभी दल अलग-अलग अपनी गोटियां फिट करने में जुटे हुए हैं। मगर जिला बुलन्दशहर में जिला पंचायत सदस्यों में दो फाड़ हो गये है, जिसमें प्रथम दल भाजपा व भाजपा समर्थित सदस्यों का एवं द्वितीय दल में सपा, बसपा व रालोद के सदस्य है। बताया गया कि शनिवार को होने वाले नामांकन के लिये रालोद, सपा व बसपा के करीब 25-30 सदस्य समेत पदाधिकारी, आशा यादव के समर्थन में मंत्रणा करने हेतु सिकन्द्राबाद के ग्राम पीर बियाबानी स्थित चन्द्रकांता महाविद्यालय पहुंचे, जहां उक्त सभी सदस्यों व पदाधिकारियों के लिये भोजन की व्यवस्था समेत अन्य सभी व्यवस्थाएं की गयी थी, जिसकी जानकारी जैसे ही जिला प्रशासन को हुई कि शासन-प्रशासन के इशारे पर सीओ सिकन्द्राबाद नम्रता श्रीवास्तव भारी पुलिस बल के साथ चन्द्रकांता महाविद्यालय पहंुची और पुलिस बल ने महाविद्यालय को चारों ओर से घेर लिया, जहां रालोद, सपा व बसपा के जिलाध्यक्ष एवं अन्य पदाधिकारियों समेत करीब 25-30 लोग मौजूद थे, जिन्हें पुलिस ने हिरासत में ले लिया। इसके बाद रालोद के वरिष्ठ नेता चौ0 बिजेन्द्र सिंह एवं सीओ की तीखी नोकझोंक हो गई और चौ0 बिजेन्द्र सिंह बिफर गये और वहां मौजूद अन्य लोगों ने उन्हें मुश्किल से शांत किया।

  • मैं शपथ पत्र के साथ कहॅूंगा कि हमारा नामांकन नहीं होने दिया-सुनील चरोरा
  • कल जिला पंचायत अध्यक्ष पद हेतु नामांकन होना है, जिसके बारे में चर्चा करने हेतु हम लोग यहां इकट्ठा हुए थे और यह चर्चा कर रहे थे कि कौन-कौन को प्रस्तावक बनाना है और कौन-कौन अनुमोदक रहेगा। इसी बीच 250-300 पुलिसकर्मियों ने हमें घेर लिया और कहा कि आप लोग धारा 144 का उल्लंघन कर रहे हो, इसलिये हिरासत में लिया गया है।जब हमने कहा कि हम लोगों ने खाना बनवाया है और खाना खाकर चलेंगे तो सीओ ने एक न सुनी और हमें हिरासत में लेकर गाड़ी में बिठा दिया।साथ ही बताया कि हमें शक है कि प्रशासन हमारा नामांकन नहीं होने देगा।इससे पूर्व भी एक साल पहले घटना घटित हुई थी कि उन्हें पुलिस उठाकर ले गयी थी।घर वालों को 24घंटे तक पता नहीं चला था कि वे कहां पर है?उसके बाद कुछेक को अहार थाने में छोड़ा तो कुछेक को नोयडा में।जिसमंे महेन्द्र भैया अहार थाने में मिले और कुछेक को 48घंटे बाद नोयडा में छोड़ा। हमें पता है कि ये सब प्रशासन सत्ता के दबाब में कर रहा है और भाजपा की अध्यक्ष पद की प्रत्याशी को जिताने के लिये हमें ले जाया जा रहा है,पता नहीं कहां ले जाया जा रहा है, कोई बता नहीं रहा। यदि हमारे साथ अनहोनी होती है तो प्रशासन जिम्मेदार होगा। आज हम रालोद,बसपा व सपा से कुल 20 सदस्य यहां इकट्ठा हुए है। पता नहीं कि हिरासत मे लिए गये सदस्य सुरक्षित रहेंगे या नहीं। यह शासन-प्रशासन की जिम्मेदारी है। अगर हमारा नामांकन नहीं हो पाया तो मैं एफिडेबिट के साथ कहूंगा कि हमारा नामांकन नहीं होने दिया गया।
  • सीओ उवाच -हमें चन्द्रकांता महाविद्यालय में बैठक की सूचना मिली थी, जिसके आधार पर हम यहां आये हैं और आप लोगों के पास बैठक करने की कोई परमीशन नहीं हैं,जिसके कारण आपने सरेआम धारा-144 का उल्लंघन किया है,जिसके तहत यह कार्यवाही की जा रही है।एक प्रश्न के जबाब में सीओ ने बताया कि सूचना के आधार पर करीब 25-30 लोगों को हिरासत में लिया गया हैं।  

 342 total views,  2 views today

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *